भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने गोपाल भार्गव द्वारा कांग्रेस सरकार के मंत्रियों को संस्कार सिखाने वाले बयान पर कहा कि उन्हें तत्कालीन भाजपा सरकार के बड़बोलेपन  को नहीं भूलना चाहिए। श्रीमती शोभा ओझा ने कहा कि संस्कार और शुचिता की बात करने वाली भाजपा ने कभी भी अपने जनप्रतिनिधियों और मंत्रियों को नैतिकता और व्यवहार की शिक्षा नहीं दी थी। जिसके कारण मध्य प्रदेश पिछले 15 वर्ष लगातार राष्ट्रीय स्तर पर अपमानित होता रहा। तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अमेरिका की सड़कों की तुलना मध्य प्रदेश से करने से विश्वस्तर पर जो हास्यास्पद स्थिति निर्मित हुई उससे मध्य प्रदेश बारंबार शर्मसार हुआ ।भाजपा के  तत्कालीन मंत्री गण  कुंवर विजय शाह ,बाबूलाल गौर, गौरी शंकर शेजवार और स्वयं गोपाल भार्गव द्वारा अनेक बार दिए गए बयानों को कोई भी नागरिक संस्कार की भाषा नहीं कह सकता। 
श्रीमती ओझा ने  कहा कि  गोपाल भार्गव को  कांग्रेस सरकार के मंत्रियों को संस्कार सिखाने की  बात कहने के पहले स्वयं   एवं अपनी पार्टी के गिरेबान में झांकना चाहिए। श्रीमती शोभा ओझा ने कहा  कि आचरण ,मर्यादा एवं संस्कारों की नसीहत गोपाल भार्गव के मुंह से अच्छी नहीं लगती । साल 1991 का विधान सभा के सदन में हुआ  शर्मनाक चूड़ी चप्पल कांड भार्गव के अमर्यादित व्यावहार और व्यक्तित्व को उजागर करता है।