पुलवामा हमले को लेकर नरेन्द्र मोदी सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जो गृह मंत्री राजनाथ सिंह के कश्मीर घाटी से वापस लौटने के बाद की जाएगी। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने शुक्रवार को सरकार का पूर्ण समर्थन करते हुए कहा- “हम अलग-अलग नहीं है।”

इससे पहले, राजनाथ सिंह ने दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा जिला में सुरक्षाबलों के काफिले पर हुए हमले के बाद की स्थिति का जायजा लेने के लिए शुक्रवार को गए। गुरूवार को हुए सुरक्षाबलों पर हुए आत्मघाती हमले में 44 जवान शहीद हो गए।

सर्वदलीय बैठक बुलाने का फैसला नई दिल्ली में 7 लोक कल्याण मार्ग पर शुक्रवार की सुबह पीएम मोदी की अध्यक्षता में बुलाई गई सुरक्षा मामलों की समिति की बैठक में लिया गया। सुरक्षा मामलों की समिति की बैठक के बाद केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा- “गृह मंत्री के कश्मीर से वापस आने के बाद जल्द ही सर्वदलीय बैठक बुलाई जाएगी।”

ये भी पढ़ें: पुलवामा हमले पर पाक उच्चायुक्त को समन, JeM के खिलाफ कार्रवाई की मांग

ऐसा माना जा रहा है कि यह बैठक शनिवार को होगी, जिसमें सरकार की तरफ से सभी दलों को पुलवामा हमले और कश्मीर में सुरक्षा स्थिति के बारे में बताएगी। 78 गाड़ियों में जम्मू से श्रीनगर जा रहे करीब 2,500 से ज्यादा सीआरपीएफ जवानों के काफिले को आत्मघाती विस्फोट कर निशाना बनाया गया। विस्फोटकों से भरी एसयूवी गाड़ी ने उस काफिले में से एक बस में जा टकराई।