जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में देवरिया जिले के रहने वाले शहीद विजय मौर्य का पार्थिव शरीर सीआरपीएफ के आला अधिकारी उनके पैतृक गांव लेकर पहुंचे. इसके बाद शहीद की पत्नी विजय लक्ष्मी पति के शव को देखने की जिद करने लगी. साथ ही वह इस बात पर अड़ी रही कि सीएम योगी उनके गांव आए. विजय लक्ष्मी का कहने लगी कि अगर सीएम उनके घर नहीं आएंगे तो वह अपनी बच्ची के साथ आत्मदाह कर लेंगी.

इसके बाद प्रशासन के अलावा सीआरपीएफ के अधिकारियों ने कई घंटों तक मान-मनोबल किया. लेकिन शहीद की पत्नी के आगे किसी की एक न चली. इसके बाद जिला प्रशासन ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से फोन से शहीद के परिवार से बात कराई. लेकिन शहीद की पत्नी गांव में सीएम को बुलाने पर अड़ी रहीं.

इसके अलावा कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय सिंह उर्फ लल्लू ने कहा कि कांग्रेस पार्टी शहीद के परिवार के साथ है. वहीं कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भी शहीद की पत्नी से टेलीफोन से बात कर ढाढस बंधाया. इसके बाद हजारों लोगों ने आंसुओं के सैलाब के साथ देवरिया के लाल शहीद विजय कुमार मौर्य को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की. इस मौके मौके पर कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, अनुपमा जयसवाल के आलावा कई जनप्रतिनिधि मौजूद रहें.