इस्लामाबाद। एक दिन पहले भारत से जंग न करने की बात करने वाले  पाकिस्तान ने ‎फिर से अपना रंग बदल ‎‎लिया है। पाक के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि वे एक शर्त पर भारतीय पायलट को छोड़ने के लिए तैयार हैं।  कुरैशी ने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान इसके लिए फोन पर बातचीत के लिए तैयार हैं। कुरैशी का कहना है कि दोनों देशों के बीच माहौल ठीक होने तक वे पायलट अभिनंदन को रिहा नहीं करेंगे। तो कुरैशी की इस शर्त पर भारत के विदेश मंत्रालय ने सख्त रुख अपनाया है। भारत ने जबाव देते हुए कहा कि इस मामले में कोई सौदेबाजी नहीं की जाएगी और पायलट को कुछ हुआ तो भारत द्वारा कड़ी कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि कुरैशी ने कहा कि उनका देश जंग नहीं चाहता है और उन्होंने भारत से सभी लंबित मुद्दों के हल के लिए वार्ता की मेज पर आने का आह्वान किया। कुरैशी ने कहा, उनका हमला अपनी रक्षा करने के हमारे अधिकार, हमारी ईच्छाशक्ति और हमारी क्षमता को दर्शाता है। हम आशा करते हैं कि भारत सभी लंबित मुद्दों के हल के लिए वार्ता की मेज पर आएगा। गौरतलब है ‎कि पाक मंत्री की टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान की वायुसेना ने भारतीय आतंकवाद निरोधक अभियान के जवाब में भारत में सैन्य प्रतिष्ठानों को निशाना बनाया लेकिन उसकी कोशिश को पूरी तरह ‎विफल कर दिया गया । इससे पहले, पाकिस्तान ने दावा किया कि उसने दो भारतीय सैन्य विमानों को गिराकर भारत पर पलटवार किया। उसके अनुसार एक विमान उसके कब्जे वाले कश्मीर में गिरा जबकि दूसरा जम्मू कश्मीर में ।