इंदौर। खजराना गणेश के एक भक्त ने अपनी प्लॉट की रजिस्ट्री ही दान पेटी में डाल दी। यह रजिस्ट्री बुधवार को दान में निकली। जिस प्लॉट की रजिस्ट्री निकली है उसकी चौड़ाई 15 फीट और लंबाई 40 फीट है। यह प्लॉट प्रगति नगर में है। रजिस्ट्री टाइल्स फिटिंग का काम करने करने वाले शंभुराम यादव ने डाली थी। यादव का कहना है कि प्लॉट उन्होंने 2010 से पहले ढाई लाख रु. खर्च कर पत्नी के नाम से लिया था। मेरी और पत्नी की इच्छा इस पर मंदिर बनाने की थी लेकिन इस पर एक महिला से विवाद खड़ा हो गया।

इस संबंध में मैंने अपना पक्ष जनसुनवाई में भी रखा और वकीलों से भी राय ली। विवाद में उलझना और उसका अन्य तरीको से निराकरण मेरे लिए संभव नहीं है। इस कारण मैंने और पत्नी ने निर्णय लिया कि इसे खजराना गणेश मंदिर को दान दे दिया जाए। इसके लिए तत्कालीन प्रशासक मनीष सिंह से मिलने का प्रयास किया था।
इसके बाद करीब 15 दिन पहले मैंने रजिस्ट्री दान पेटी में डाली और उस पर अपना नाम और नंबर लिख दिया। मंदिर प्रशासन जब भी चाहेगा, मैं आकर प्लॉट खजराना गणेश के नाम कर दूंगा। मंदिर के मुख्य पुजारी अशोक भट्ट ने बताया कि रजिस्ट्री निकली है। प्लॉट मालिक से जब बात हुई तो उसने प्लॉट मंदिर के नाम करने की बात कही है।