पेशावर । वित्तीय संकट से जूझ रहे और कंगाली की ओर बढ़ रहे पाकिस्तान के मंत्रियों को सूझ नहीं रहा है कि वे क्या कहें या क्या न कहें। महंगाई की मार से बचने के लिए खैबर पख्तूनख्वा विधानसभा स्पीकर मुस्ताक गानी ने एक अनोखी सलाह दी है जिसके बाद सोशल मीडिया पर उनकी जग हंसाई शुरू हो गई है। मुस्ताक ने कहा, मंहगाई के दौर में लोगों को रोटियों की संख्या कम कर देनी चाहिए।  मीट द प्रेस कार्यक्रम में उन्होंने कहा, "दो रोटी के बजाय एक रोटी ही खाएं।" मुस्ताक ने पाकिस्तान के ऊपर भारी-भरकम कर्ज और मौजूदा संकट का जिक्र करते हुए कहा कि लोगों को दो रोटी के बजाय एक रोटी खानी चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि ऐसा समय आएगा जब आपको एक या दो रोटी नहीं बल्कि अढाई रोटियां खाने का मौका मिलेगा।
उन्होंने नया फार्मूला बताते हुए कहा, अगर एक व्यक्ति एक दिन में दो रोटी खाता है और अगर वह इसे घटाकर एक रोटी ही खाता है तो वह अगले दिन दो से तीन रोटियां खाने में समर्थ हो सकता है। जल्द ही उनके बोल पाकिस्तानी अखबारों की सुर्खियां बन गए और लोगों ने उन्हें निशाने पर ले लिया। यहां तक पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के नेता बिलावल भुट्टों ने कहा, "नया पाकिस्तान के बारे में तो पता नहीं पर ये महंगा पाकिस्तान जरूर है।" ट्विटर पर लोगों को ये तर्क बिल्कुल समझ नहीं आया। एक यूजर ने लिखा, अपना डाइट प्लान अपने पास रखो। सोशल मीडिया पर कई लोगों ने सवाल पूछा कि आपने महंगाई के दौर में कितनी रोटियां कम कर दी हैं? वहीं, कुछ लोगों ने पुरानी तस्वीरें शेयर करते हुए सवाल किए।