नई दिल्ली, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की सुरक्षा को लेकर एक बड़ी चूक उजागर हुई है. कांग्रेस ने राहुल की सुरक्षा के बाबत गृहमंत्री राजनाथ सिंह को एक चिट्ठी लिखी है. इसमें कहा गया है कि बुधवार को अमेठी में नामांकन के दौरान राहुल गांधी के चेहरे पर लेजर लाइट दिखी थी.

चिट्ठी में कांग्रेस ने लिखा कि राहुल गांधी एसपीजी प्रोटेक्टेड हैं. कल राहुल गांधी नामांकन पत्र भरने के बाद जिस समय मीडिया से मुखातिब हो रहे थे, उसी समय उनके चेहरे पर एक हरे रंग की लेजर लाइट देखी गई. राहुल के चेहरे पर सात बार लाइट देखी गई. दूसरी ओर कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा है कि कांग्रेस ने गृह मंत्रालय को राहुल की सुरक्षा में चूक संबंधित कोई लेटर नहीं लिखा है. सिंघवी ने कहा है कि गृह मंत्रालय ने भी स्वीकार किया है कि कांग्रेस की तरफ से कोई लेटर नहीं मिला है.

कांग्रेस ने राहुल की दादी इंदिरा गांधी और पिता राजीव गांधी की हत्या का जिक्र करते हुए गृहमंत्री को सुरक्षा में लापरवाही को लेकर ये चिट्ठी लिखी है. आपको बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बड़े रोड शो के बाद अमेठी में नामांकन किया था. इस दौरान प्रियंका गांधी वाड्रा, रॉबर्ट वाड्रा भी मौजूद थे.

वो कांग्रेस के फोटोग्राफर के कैमरे की लाइट: SPG

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने इस शिकायत पर बयान दिया है कि उन्हें अभी तक किसी तरह की आधिकारिक शिकायत नहीं मिली है. हालांकि, उनकी तरफ से एसपीजी के डायरेक्टर को इस मामले की जांच करने को कह दिया गया है.

वहीं, SPG की तरफ से कहा गया है कि उन्होंने वीडियो क्लिप को देखा है, जिसमें एक ग्रीन लाइट राहुल के चेहरे पर दिख रही है. वह कांग्रेस के ही फोटोग्राफर की लाइट है. इस बात की जानकारी राहुल गांधी के स्टाफ को भी दी जा चुकी है.
कांग्रेस ने पत्र में लिखा है कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या कर दी गई थी. इसके बाद 21 मई 1991 में पेरूंबदूर में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या कर दी गई थी. वह भी चुनाव का दौर था. कांग्रेस ने इस घटना की फोटो पेन ड्राइव में उपलब्ध कराई है. पत्र में कहा गया है कि बहुत छोटे अंतराल पर 7 अवसरों पर उनके सिर पर लेजर लाइट देखी गई. इसमें 2 बार उनके ललाट को निशाना बनाया गया.

इसका वीडियो भी उपलब्ध कराया जा रहा है. कांग्रेस ने यह आशंका व्यक्त की है कि स्नाइपर ने यह निशाना लगाने की कोशिश की होगी. इससे ऐसी आशंका है कि यह कांग्रेस अध्यक्ष की सुरक्षा में चूक है.

गृहमंत्री को भेजे गए लेटर में कहा गया है कि इस घटना ने चिंता में डाल दिया है. अगर राजीव गांधी और इंदिरा गांधी की हत्या के परिप्रेक्ष्य में देखें तो यह घटना बड़ी दिखाई देती है.

लेटर में गृहमंत्री से अपील की गई है कि इस पर फौरन ऐक्शन लिया जाए. यह सुरक्षा में चूक का बड़ा मामला है. यह राज्य प्रशासन की लापरवाही का मामला है. पत्र में कहा गया है कि राजनैतिक मतभेदों के बावजूद गृह मंत्रालय की जिम्मेदारी है कि राहुल की सुरक्षा पर आपका मंत्रालय और सरकार ध्यान दे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की सुरक्षा में चुनाव के दौरान कोई चूक नहीं होनी चाहिए.

कांग्रेस ने मांग की है कि फौरन इस मसले पर ध्यान दिया जाए. राहुल की सुरक्षा में पूरी तरह से प्रोटोकाल का पालन किया जाए.