कोलकाता । भारत के सर्वश्रेष्ठ गोलकीपरों में से एक सुब्रतो पाल ने कहा है कि किसी भारतीय को ही राष्ट्रीय फुटबॉल टीम का कोच बनाया जाना चाहिये। सुब्रतो ने कहा कि स्वदेशी कोच ही देश में  सफल हो सकता है और टीम को नई ऊंचाई पर ले जा सकता है। भारतीय कोच को ढूंढना लक्ष्य होना चाहिए क्योंकि वह जमीनी स्तर पर खेल को बेहतर करने में मदद करेगा और यही चीज किसी भी टीम को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जाती है। पाल ने कहा कि पहले तो आपको भारतीय कोच पर भरोसा होना चाहिए। अगर हम उन्हें मौका ही नहीं देंगे तो वे अपने आपको साबित कैसे करेंगे। 130 करोड़ की आबादी वाले देश में 10 भी अच्छे कोच नहीं होंगे, ऐसा नहीं हो सकता है। देशी कोच रखने में किसी प्रकार की परेशानी भी नहीं आयेगी। खिलाड़ी भी उससे बेहतर तरीके से संवाद कर सकते हैं। विदेशी कोच से सबसे बड़ी परेशानी संवाद और बात समझने में आती है। वहीं अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) भी अभी नए कोच की तलाश कर रहा है। एआईएफएफ ने साथ ही कहा कि अभी उसकी आर्थिक हालत किसी विदेशी कोच को रखने की नहीं है। ऐसे में किसी भारतीय को ही कोच पद मिलना तय माना जा रहा है।