नई दिल्ली । युगल विशेषज्ञ टेनिस खिलाड़ियों रोहन बोपन्ना और दिविज शरण के भी टारगेट ओलंपिक योजना (टॉप्स) से बाहर होने की आशंकाएं हैं। इस समय विभिन्न स्पर्धाओं के 71 ऐथलीट टॉप्स के अंर्तगत वित्तीय सहायता हासिल कर रहे हैं। बोपन्ना और शरण इस सूची में शामिल टेनिस खिलाड़ी हैं। टोक्यो ओलिंपिक को देखते हुए सत्र के शुरू में इन दोनों ने एक साथ खेलने का फैसला किया था पर परिणाम ठीक नहीं रहे जिससे उन्हें अलग जोड़ीदारों के साथ खेलने पर बाध्य होना पड़ा।
अब सरकार ने अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) से पूछा है कि ये अलग क्यों हुए और महासंघ ने इसके जवाब में बोपन्ना से कहा कि वे इस फैसले का कारण बताएं। वहीं देश के शीर्ष एकल खिलाड़ी प्रजनेश गुणेश्वरन और अंकिता रैना टॉप्स का हिस्सा नहीं है क्योंकि उनके नाम जकार्ता-पालेमबांग एशियाई खेलों के बाद से हटा दिए गए थे जिसमें उन्होंने कांस्य पदक हासिल किए थे। एआईटीए ने शीर्ष खिलाड़ियों के दोबारा सूची में शामिल कराने के लिए पहल नहीं की। उसका कहना है कि खेल मंत्रालय ने एशियाई खेलों के बाद से इसके बारे में कोई चर्चा नहीं की और हम टॉप्स में किसी को शामिल करने के लिए जोर नहीं दे सकते।