सुल्तानपुर में मतदान के दौरान केंद्रीय मंत्री व बीजेपी प्रत्याशी मेनका गांधी और गठबंधन प्रत्याशी चंद्रभद्र सिंह उर्फ सोनू के बीच झड़प का मामला सामने आया है. मेनका गांधी ने आरोप लगाया कि मतदाताओं को गठबंधन प्रत्याशी के समर्थकों द्वारा डराया जा रहा है. इस मामले में न्यूज18 से खास बातचीत में गठबंधन के प्रत्याशी सोनू सिंह ने कहा कि मेनका गांधी का आरोप झूठा है. सोनू कहते हैं कि यहां पर इतनी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था है, ऐसे में कोई किसी को कैसे धमका सकता है?

गठबंधन प्रत्याशी चंद्रभद्र सिंह उर्फ सोनू सिंह ने बताया कि हम लोग वोट डालने गए थे. वहां पर बीजेपी प्रत्याशी मेनका गांधी भी अपने समर्थकों के साथ पहुंची थीं. उन्होंने कहा कि हम दोनों के बीच में ंकोई झड़प नहीं हुई है. मेनका गांधी के सभी आरोप निराधार हैं. इस मामले में माहौल बनाने के लिए तूल दिया जा रहा है.

दरअसल, मतदान के पहले ही जिले में माहौल खराब हो गया. शनिवार आधी रात यहां मेनका गांधी के समर्थकों के साथ मारपीट की गई. गठबंधन के प्रत्याशी चंद्रभद्र सिंह उर्फ सोनू सिंह के समर्थकों ने मेनका गांधी के प्रचार में लगे आधा दर्जन लोगों को बुरी तरह से मारा-पीटा.

बताया जा रहा है कि सुल्तानपुर के धनपत गंज के नन्दगीरी में आधी रात को मेनका गांधी की टीम डोर-टू-डोर प्रचार में लगी थी. इसी दौरान उनके सदस्यों के साथ मारपीट की गई. इस घटना पर मेनका गांधी ने एसपी से देर रात में बात भी की थी.

सुल्तानपुर के पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स ने बताया कि रात में घटना की सूचना मिली है. बीजेपी प्रत्याशी मेनका गांधी की टीम के लोगों को चोट आई हैं. इस दौरान कई गाड़ियों में भी नुकसान हुआ है. उधर चंद्रभद्र के लोगों का आरोप है कि मेनका के लोग पैसा बांट रहे थे, जिसका विरोध करने पर उनके साथ मारपीट की गई.