भिलाई। बिजली कंपनी के भिलाई-3 स्थित अति उच्च क्षमता के 220 केवी सब स्टेशन में लगे जिस सीटी (करंट ट्रांसफार्मर) में विस्फोट हुआ वह 59 साल से भी अधिक पुराना था। इस सीटी में विस्फोट के कारण सब स्टेशन में लगे पूरे पांच पावर ट्रांसफार्मर से सप्लाई ठप हो गई थी। सवा घंटे के भीतर तीन ट्रांसफार्मर से सप्लाई शुरू कर दी गई, लेकिन चौथे ट्रांसफार्मर से सप्लाई सुबह 4.30 बजे शुरू हो पाई। वहीं बंद अंतिम ट्रांसफार्मर को टेस्टिंग, तीनों सीटी व जले केबल को बदलने के बाद शनिवार की शाम चार्ज किया जा सका। यह सब स्टेशन बिजली कंपनी के सबसे पुराने सब स्टेशनों में से एक और अत्यधिक लोड वाला है।

इस वजह से एमडी सहित आला अधिकारी रात से दिन भर डटे रहे। छत्तीसगढ़ राज्य बिजली कंपनी के भिलाई-3 स्थित 220 केवी सब स्टेशन में शुक्रवार की रात 10.10 बजे के करीब 125 केवीए क्षमता के एक पावर ट्रांसफार्मर के सप्लाई लाइन में लगे तीन में से एक सीटी (करंट ट्रांसफार्मर) विस्फोट हो गया था।
विस्फोट इतना तेज था कि इस ट्रांसफार्मर के साथ ही सब स्टेशन में लगे अन्य ट्रांसफार्मर की सप्लाई भी ठप हो गई। इससे पूरे विभाग में हड़कंप मच गया। पूरा अमला इसे दुस्र्स्त करने में डटा रहा।

सब स्टेशन निर्माण के समय लगाया गया था सीट 
भिलाई-3 में 220 केवी सब स्टेशन का निर्माण 1960 में हुआ है। पावर ट्रांसफार्मर के साथ ही सेट में यह सीटी लगाया गया था। यह दोनों ही जापान से इम्पोर्ट किया गया था, और अब तक बगैर किसी फॉल्ट के बेहतर गुणवत्ता के साथ चल रहा था। उस समय सीटी की कीमत करीब ढाई लाख थी। आज इसे बदल दिया गया। उसके साथ के दो और सीटी को भी बदल दिया गया।
रात में घटना के बाद से ही बिजली कंपनी का तकनीकी अमला व इंजीनियर जुट गए थे। जिस सीटी में ब्लास्ट हुआ उस ग्रिड के पावर ट्रांसफार्मर के बगल वाले पावर ट्रांसफार्मर में भी फाल्ट आ गया था। इसे रात में ही सुधारा गया। यह काम सुबह 4.30 बजे तक चला। इसके बाद इस ट्रांसफार्मर को भी चार्ज करते हुए इस पर लोड दिया गया।