रायपुर। जिले में जल संरक्षण व संवर्धन के लिए साढ़े तीन सौ से अधिक तालाबों का गहरीकरण किया जा रहा है। यह कार्य बारिश शुरू होने से पहले पूरा कर लेने का लक्ष्य रखा गया है। जिला पंचायत सीईओ डॉ. गौरव सिंह ने गांवों में चल रहे कार्यों का निरीक्षण कर कार्य में गति लाने के निर्देश दिये।
उल्लेखनीय है कि गांवों में तालाब आम निस्तारी का प्रमुख माध्यम हैं। तालाबों के सूख जाने के कारण लोगों को जहां निस्तार की समस्या का सामना करना पड़ता है। वहीं इससे भूजल स्तर कम हो जाने से पेयजल संकट की स्थिति भी निर्मित हो जाती है। इसके चलते इस बार रोजगार मूलक कार्यों में तालाब गहरीकरण को प्राथमिकता दी गई है। वर्तमान में जिले के 408 ग्राम पंचायत में से 377 ग्राम पंचायत में कार्य प्रगति पर है व 76 हजार मजदूर रोजगारमूलक कार्यों में नियोजित है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि गांवों में तालाब आम निस्तारी का प्रमुख माध्यम है। तालाबों के सूख जाने के कारण लोगों को जहां निस्तार की समस्या का सामना करना पड़ता है वहीं इससे भूजल स्तर कम हो जाने से पेयजल संकट की स्थिति भी निर्मित हो जाती है। इसके चलते इस बार रोजगार मूलक कार्यों में तालाब गहरीकरण को प्राथमिकता दी गई है।