मऊ। जिले में अवैध असलहों का कारोबार जोरों पर है। अपराध और अपराधी दोनों पर पुलिस का शिकंजा ठीला पड़ता जा रहा है। पुलिस अपराध को कम पंजीकृत करने में जहां पसीने बहा रही है वहीं पर अपराधियों को संरक्षित करने में पीड़ितों को पुलिस के द्वारा परेशान किया जा रहा है। बीते मंगलवार को पुलिस ने एक तमंचा ओर कारतूस बरामद कर अपनी पीठ थपथपाने का काम की। पुलिस सूत्रों के अनुसार पुलिस अधीक्षक मऊ के आदेश पर प्रभारी निरीक्षक थाना दोहरिघाट क्षेत्र भ्रमण पर थे कि मोबाइल फ़ोन के जरिये प्रभारी निरीक्षक नीरज कुमार पाठक ने मंगलवार की सुबह संदिग्ध वाहन संदिग्ध ब्यक्ति की तलाश हेतु उप निरीक्षक जगदीश सिंह,हेड कांस्टेवल धर्मेंद्र सिंह,हेड कांस्टेबल अनिल यादव को कस्बे में पुलिस बूथ के समीप चेकिंग हेतु लगाए थे कि होंडा एजेंसी के समीप बड़हलगंज की तरफ से एक ब्यक्ति पैदल आता हुआ दिखाई दिया ।पुलिस बल को अपने समीप देख कर घबरा कर इधर उधर भागने लगा ।पुलिस बल को उस ब्यक्ति पर संदेह हुआ और संदेह के आधार पर पुलिस बल के बुलाने पर वह भागने लगा ।भागते हुए ब्यक्ति को उप हेड कांस्टेबल धर्मेंद्र सिंह ने दौड़ा कर पकड़ लिया ।पुलिस बल द्वारा तलासी लेने पर उसके पास से एक बारह बोर का देशी तमंचा,तथा तीन जिंदा कारतूस मिला  पूछ ताछ में उसने अपना नाम संजीवन विश्वकर्मा पुत्र शर्मा निवासी फड़सार थाना बड़हलगंज जनपद गोरखपुर बताया । प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि आरोपी की सम्बंधित धारा में कार्यवाही की गई है।