बस्ती । किसान हितों के लिये आखिरी सांस तक संघर्ष करने वाले महात्मा महेन्द्र सिंह टिकैत को उनके आठवीं पुण्य तिथि पर भारतीय किसान यूनियन द्वारा प्रेरणा दिवस के रूप में याद किया गया। तहसील परिसर में बस्ती सदर तहसील अध्यक्ष फूलचंद के संयोजन में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये मण्डल उपाध्यक्ष दिवान चन्द पटेल ने कहा कि महात्माजी ने किसानों को एकजुट कर जिस प्रकार से आन्दोलन की धार को मुखर किया था, अब फिर समय आ गया है कि किसान अपने अधिकारों के लिये संघर्ष तेज करें क्योंकि केन्द्र और राज्य की सरकारें किसानों की आय दो गुना करने की बात तो करती है किन्तु गन्ना मूल्य के अरबों रूपयों के बकाये पर वे चुप्पी साधे हुये हैं। 
महासचिव शोभाराम ठाकुर ने कहा कि बस्ती, वाल्टरगंज की चीनी मिल बंद है, गन्ना किसानों का मिलों पर 3 अरब रूपयों से अधिक का बकाया है। जब किसानों, मिल मजदूरों ने हक के लिये आन्दोलन शुरू किया तो उन्हें सरकार  और प्रशासन ने अभियुक्त बना दिया। जब तक किसानों के हित में नीतियां नहीं बनायी जाती समस्या का हल निकलने वाला नही है। 
महात्मा टिकैत के चित्र पर माल्यार्पण के साथ आयोजित प्रेरणा दिवस में भाकियू के जयराम वर्मा, राजेन्द्र चौधरी, रामनवल किसान, रामफेर, घनश्याम, त्रिवेनी, गनीराम, सत्यराम, अशोक कुमार, रामपाल, जोखन, गौरीशंकर, दीप नरायन, राम सूरत, ओम प्रकाश, वंदना चौधरी, गीता, मोहम्मद हसन, रामजी शर्मा, परमात्मा चौधरी, रामलगन, जयपाल चौधरी, मोहम्द मुर्तुजा के साथ ही भाकियू के अनेक   पदाधिकारी, कार्यकर्ता, किसान, मजदूर शामिल रहे।