इन्दौर । बुधवार को विधानसभा राऊ में भाजपा के लोकसभा प्रत्याशी शंकर लालवानी ने जिला अध्यक्ष अशोक सोमानी, मधु वर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष जीतु जिराती, रवि रावलिया, मुकेश सूरा, सोमेश्वर पटेल, शिव डिंगु, विधानसभा जंसमपर्क प्रभारी रामस्वरूप गेहलोत, मंडल अध्यक्ष घनश्याम नारोलिया, नारायण पटेल, मनदीपसिंह बाजवा की उपस्थिति में जनंसपर्क देवगुराड़िया से प्रारंभ हुआ। देवगुराड़िया में प्राचीन महादेव मंदिर में पूजा अर्चना करने के पश्चात जनसंपर्क प्रारम्भ हुआ।
ग्राम देवगुराड़िया में नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए शंकर लालवानी ने कहा कि भाजपा का एक ही संकल्प है, एक भारत-श्रेष्ठ भारत, जिसके लिए हमारी सरकार ने सीमाओं को सुरक्षित करने का काम किया है लेकिन कांग्रेस नही चाहती कि घुसपैठ बंद हो, क्योंकि उसका वोट बैंक खिसक जाएगा। इसलिये कांग्रेस नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस पर रोक लगवाना चाहती है। भाजपा चाहती है कि सारे घुसपैठियों को देश के बाहर निकाल दिया जाए, लेकिन जब जब भाजपा एनआरसी लागू करने की बात करती है, तो कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों का पेट दुखने लगता है। क्या आप चाहते है कि आपको मिलने वाली सुविधाओं पर घुसपैठियो का कब्जा हो, लेकिन आज पश्चिम बंगाल में बांग्लादेशी घुसपैठियों, कश्मीर में पाकिस्तानी घुसपैठियों ने कब्जा कर लिया है, लेकिन कांग्रेस की सरकार सोती रही, अब जब भाजपा इन्हें देश से खदेड़ने की बात करती है, तो कांग्रेस उसका विरोध करती है, कांग्रेस घुसपैठियों का समर्थन करते नजर आ रही है, ऐसी देश विरोधी मानसिकता वाली कांग्रेस को सबक सिखाकर मोदीजी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाये।
मधु वर्मा ने कहा कि मोदी जी ने भ्रष्टाचार मुक्त भारत का नारा दिया था, जो सार्थक होता नजर आ रहा है, आज एक पारदर्शी सरकार है, जिसने कोयला आवंटन की नीलामी हो या स्पेक्ट्रम की नीलामी हो सब क्षेत्रो में पारदर्शी प्रणाली अपनाकर काम किया एक ओर घोटालो की सरकार थी, कदम कदम पर कांग्रेस की यूपीए सरकार ने घोटाले किये थे।  
इसके पश्चात दुधिया, बिजासन टेकरी, बडियाकिमा, उमरियाखुर्द, जामन्याखुर्द, राजधरा, मुण्डला दोस्तदारब, पिपलदा, तिल्लौर बुजुर्ग, तिल्लौर खुर्द, रालामंडल, मिर्जापुर, अनुराधा नगर(तेजाजी नगर), असरावद खुर्द, उमेरीखेडा, मोरोद, माचला, राऊ, रंगवासा, नरलाय, सिन्दोड़ा, नावदापंथ, सिंहासा, बिसनावदा में समापन हुआ। जनसंपर्क में सन्तोष ठाकुर, मुरली व्यास, जुगल दांगी, प्रेम मंडलोई, लखन पटेल, घनश्याम पाटीदार, माखन मंडले, नारायण मुकाती, निलेश पाटीदार, भारती पाटीदार, संगीता कोल्ते, कैलाश चौधरी, घनश्याम पटेल, मधु पटेल  सहित बड़ी संख्या के कार्यकर्ता उपस्तिथ थे।