भोपाल। भाई की मौत के बाद में बीते चार सालों से डिपरेशन में चल रही महिला ने अपने घर में नींद की गोलियां खा ली थीं। जिसके बाद में परिजनों ने उन्हें जहांगीराबाद स्थित चरक अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। मामले में पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है। जांच टीम ने बताया की पुलिस को मृतका के घर से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। खुदकुशी के कारणों की जांच की जा रही है। मामले मे पुलिस के अनुसार मृतका शैली जैन पति शैलेंद्र जैन (40) निवासी मकान नंबर 930 अशोका गार्डन गृहणी थीं। उनकी शादी को 28 साल बीत चुके थे। उनके चार बच्चे थे, जिनमे तीन बेटियां और एक बेटा शामिल है। मृतका मूलरूप से बांदा उत्तर प्रदेश की निवासी थीं। जबकि उनके पति शैलेंद्र जैन बेगमगंज के रहने वाले हैं। वहीं उनका बिजनेस भी है। उनके पास में एमआरएफ टायर की डीलरशिप है। जिसका शो रूम बेगम गंज में ही पिछले कई सालों से शैलेंद्र भोपाल के अशोका गार्डन में परिवार सहित रहते हैं। अशोका गार्डन में ही तारण नाम से उनका एक हॉस्टल है। शैलेंद्र ने पुलिस को बताया कि चार साल पहले उनकी पत्नी के बड़े भाई का बांदा में हार्ट अटैक से निधन हो गया था। जिसके बाद से ही पत्नी डिपरेशन में रहती थी, उन्होने आगे बताया की उनकी पत्नि का डाक्टर के पास डिपरेशन का इलाज भी चल रहा था। परिवार में किसी प्रकार का कोई वाद विवाद नहीं होता था। पुलिस को आशंका है की डिपरेशन के कारण ही शैली आत्मघाती कदम उठाया है। पुलिस ने शव को पीएम के बाद में परिजनों को सौंप दिया था। बताया गया है की परिवार वालो द्वारा उनका अंतिम संस्कार बेगमगंज में कर दिया गया है। पुलिस आगे की छानबीन मे जुटी है।