नई दिल्ली: सुषमा स्वराज नए मोदी मंत्रिमंडल का हिस्सा फिलहाल नहीं होगी. आगे मंत्रिमंडल विस्तार के दौरान उन्हें शामिल किया जाएगा या नहीं इसके बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है. बता दें पिछली मोदी कैबिनेट में सुषमा स्वराज ने महत्वपूर्ण विदेश विभाग संभाला था. 

शपथ ग्रहण समारोह से पहले उनके मंत्रिमंडल में शामिल होने या न होने को लेकर अटकलों का दौर चलता रहा. इन अटकलों पर विराम तब लगा जब वह शपथ ग्रहण समारोह में वह दर्शक दीर्घा में आकर बैठ आ गईं. 
पिछले पांच साल में सुषमा स्वराज ने बतौर विदेश मंत्री काफी सुर्खियां बटोरी हैं. वह अपने ट्विटर के द्वारा आम लोगों की परेशानियों को हल करने के लिए मशहूर हुईं. अक्सर जब लोग उनके मंत्रालय से जुड़ी किसी मुश्किल में फंस जाते थे तो उन्हें टैग करते हुए ट्वीट कर देते हैं. कई बार यह देखा गया जब सुषमा स्वराज लोगों की समस्याओं को दूर कर दिया. 

जेटली भी नहीं होंगे मोदी कैबिनेट का हिस्सा
बता दें इससे पहले पिछले मोदी सरकार में वित्त मंत्री रहे अरुण जेटली ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर नयी सरकार में मंत्री बनने में असमर्थता जाहिर की है। उन्होंने खराब स्वास्थ्य के चलते नई सरकार में मंत्री बनने से इनकार किया है। उन्होंने प्रधानमंत्री को भेजा गया अपना पत्र ट्विटर और फेसबुक पर भी डाला है।
जेटली ने कहा कि हाल ही में संपन्न चुनाव में भाजपा को भारी बहुमत मिलने के तुरंत बाद उन्होंने अपनी अघोषित बीमारी का इलाज के लिये समय देने के बारे में मोदी को सूचित किया था।
उन्होंने कहा, ‘मैं आपसे औपचारिक रूप से यह निवेदन करने के लिए लिख रहा हूं कि मुझे अपने लिये, अपनी चिकित्सा के लिये और अपने स्वास्थ्य के लिये कुछ समय चाहिए और इस कारण मुझे अभी नयी सरकार में कोई जिम्मेदारी न दी जाए।’