अलीगढ़ । उत्तर प्रदेश में बसपा व सपा के चुनावी गठबंधन टूटने व उपचुनाव अलग-अलग लड़ने को लेकर भारतीय जनता पार्टी सिविल लाइन मण्डल के अध्यक्ष भूपेंद्र वार्ष्णेय ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।  
भूपेंद्र वार्ष्णेय ने गठबंधन को स्वार्थ सिद्धि के लिए लिया गया निर्णय बताते हुए कहा कि जातिवाद एवं धर्म के नाम पर राजनीति कर रही बहुजन समाज पार्टी व समाजवादी पार्टी ने प्रदेश की भोली-भाली जनता को बरगला कर लोकसभा चुनाव जीतने के उद्देश्य से बेमेल गठबंधन करके अपने अपने स्वार्थ की सिद्धि करने की कोशिश की थी, जिसका कड़ा जवाब प्रदेश की जनता ने इन्हें दे दिया है।भूपेंद्र वार्ष्णेय के मुताबिक इन दलों की विचारधारा जनहित की ना होकर भाजपा को हराना की रही थी, जिसे प्रधानमंत्री मोदी जी ने महा मिलावट का नाम दिया था वहीं योगी जी ने मई तक ठग बंधन के टूटने की भविष्यवाणी की थी जो कि सच साबित हुई। देश की जागरूक जनता राष्ट्रहित एवं देशहित के साथ देश का संपूर्ण विकास चाहती है वह भारत को विश्व गुरु के रूप में देखना चाहती है। यदि अल्पसंख्यक वर्ग ने गठबंधन को वोट ना दिया होता तो ठगबंधन को इतनी सीटें भी नहीं मिलती।जबकि भला हो प्रदेश भाजपा नेतृत्व का जिन्होंने कार्यकर्ता के सामने 50: प्लस वोट पाने का लक्ष्य रखकर इनकी रणनीति को विफल कर दिया।प्रदेश महामंत्री अंत में श्री वार्ष्णेय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व भाजपा के चाणक्य अमित शाह के अलावा प्रदेश महामंत्री सुनील बंसल, प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडे, क्षेत्रीय अध्यक्ष रजनीकांत महेश्वरी समेत अनेक शीर्ष नेताओं की रणनीति और कार्यकर्ताओं की मेहनत के बल पर न सिर्फ उत्तर प्रदेश में बल्कि पूरे देश में चमत्कारिक परिणाम आए और विरोधी दलों का सूपड़ा साफ हो गया।