नई दिल्ली : मौसम विभाग ने कहा है कि अगले हफ्ते भी मध्य और उत्तर भारत में लू का प्रकोप जारी रह सकता है. मौसम विभाग ने पूर्वानुमान है कि शनिवार से मंगलवार तक उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और महाराष्ट्र के विदर्भ में ‘भीषण गर्मी’ का प्रकोप जारी रहेगा. मौसम विभाग ने बताया कि लू का प्रकोप राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और दक्षिण उत्तर प्रदेश में (अगले हफ्ते)अधिकतर दिनों जारी रहने की संभावना है.

देश के बड़े हिस्से में मामूली बारिश होने के बावजूद तापमान इसी प्रकार बरकरार रहेगा. विभाग के अनुसार भीषण गर्मी का प्रकोप ओड़िशा, उत्तर तटवर्ती आंध्र प्रदेश, झारखंड एवं बिहार में बढ़ सकता है. उत्तर भारत और मध्य भारत के क्षेत्रों में गर्मी का प्रकोप जारी रहेगा और राजस्थान के कुछ स्थानों में पारा 50 डिग्री को पार कर सकता है.

देश के उत्तर और मध्य क्षेत्र में गर्मी का कहर लगातार जारी है. अधिकांश शहरों में तापमान 50 डिग्री के आसपास पहुंच रहा है. ऐसे में दक्षिण भारत से एक अच्‍छी खबर आ रही है. मौसम विभाग के अनुसार मॉनसून आज करीब एक हफ्ते की देरी से केरल में दस्‍तक दे सकता है. 

आमतौर पर मानसून एक जून को केरल में पहुंच जाता है और इसके साथ ही आधिकारिक तौर पर चार महीने के बारिश के मौसम का आगाज होता है. आईएमडी ने मानसून को लेकर बुलेटिन में कहा था, ‘‘उत्तर की तरफ धीरे-धीरे बढ़ने की अनुकूल संभावना के कारण आठ जून के आसपास केरल में दक्षिण-पश्चिम मानसून की शुरुआत की उम्मीद है.’’

मौसम का पूर्वानुमान लगाने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट ने शनिवार को अपने संशोधित अनुमान में चार जून से सात जून के बीच इसके आने की उम्मीद जताई थी. मौसम विभाग ने मानसून के राष्ट्रीय राजधानी में आगमन में दो-तीन दिन की देरी की संभावना जताई है. हालांकि शहर में बारिश के सामान्य रहने का अनुमान है. हालांकि, निजी मौसम पूर्वानुमान संस्था ‘स्कायमेट वैदर’ ने कहा कि मानसून के दिल्ली आने में कम से कम एक सप्ताह का विलंब हो सकता है. मौसम विभाग ने बुधवार को कहा था कि मानसून आने में और देरी हो सकती है तथा यह आठ जून तक ही केरल के तट पर पहुंचेगा.