बालोद। जिले की प्रभारी मंत्री श्रीमती अनिला भेड़िया ने जिला अधिकारियों की बैठक लेकर विभागों में संचालित योजनाओ, सेवाओं, और कार्यक्रमों की समीक्षा की। उन्होंने विभागीय लक्ष्य की पूर्ति एवं लाभान्वित हितग्राहियों की जानकारी अधिकारियों से ली। मंत्री श्रीमती भेड़िया ने विभागीय वित्तीय एवं भौतिक लक्ष्य शतप्रतिशत प्राप्त करने कहा है। उन्होंने अपने समीक्षा के दौरान केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा संचालित जनहित एवं आमजनता से सीधे जुड़े हुए कल्याणकारी योजनाओं को सभी पात्र हितग्राहियों तक पहुचाने एवं लाभान्वित कराने पर जोर दिया।  मंत्री श्रीमती भेड़िया ने छत्तीसगढ़ शासन की अति महत्वपूर्ण योजना नरवा, गरवा घुरवा, बाड़ी के लिए जिले में किये जा रहे प्रयासों एवं कार्ययोजना की विस्तृत जानकारी लेकर चिन्हित ग्रामों में योजना का सफलतापूर्वक क्रियान्वयन कर ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के निर्देश दिए। गावों में बनाये जा रहे गौठान में पानी टंकी की गुणवत्ता पर विधायक गुंडरदेही कुंवर सिंह निषाद द्वारा घटिया किस्म की निर्माण करने की शिकायत पर इसमें सुधार लाने और तकनीकी पूर्वक गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने कहा है। इसी तरह गांवों के सभी गायो को गौठान में रखने की लिए उनके मालिको को प्रेरित करने का सुझाव दी है। नाला बाधान के लिए चिन्हाकित नालो पर निर्माण कार्य बारिश पूर्व पूर्ण करने कहा है। इसी प्रकार समाज कल्याण विभाग को सबसे अधिक सामाजिक सहृदयता से कार्य करते हुए दिव्यांगो, बुजुर्गों, असहाय और जरुरतमंद लोगों के कल्याण में मानवीय संवेदना का परिचय देने के निर्देश दिए है।
 महिला एवं बाल विकास विभाग की समीक्षा में रेडी टू इट निर्माण करने वाले समितियों के गुणवत्तापूर्वक कार्य नहीं होने पर बर्खास्त करने के निर्देश दिए है। आंगनबाड़ी में रिक्त पदों को शीघ्र भरने कहा। विद्युत विहीन आंगनबाड़ी केंद्रों में अविलम्ब विद्युतीकरण करने तथा निर्माणाधीन केंद्र का निर्माण शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिए। कुपोषित बच्चों को स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से एनआरसी के माध्यम से सुपोषण बनाने निर्देशित किया है। सभी पात्र हितग्राहियों को पेंशन योजनाओं से लाभन्वित करें। तीरथ बरत योजना अंतर्गत जो बुजुर्ग भ्रमण करने मे सक्षम हो उन्हें यात्रा पर भेजने और यात्रा के दौरान उनका पूरा ख्याल रखने भी कहा है।
उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से कहा है कि जिला अस्पताल सहित सभी स्वास्थ्य केन्दों में मरीजों की समुचित उपचार के साथ आवश्यक दवाओं का भंडारण करें। जेनेरिक दवाओं का वितरण करे। बरसात के मद्देनजर मौसमी दवाइयों को रखने तथा आवश्यकता अनुसार स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन करने निर्देशित किया है। अस्पतालो का समय पर खुलने व बन्द करने के साथ साथ चिकित्सको की उपस्थिती अनिवार्य बताया है। उन्होंने कहा कि लम्बे समय से अनाधिकृत रूप से अनुपस्थित चिकित्सक के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही करे।
उन्होंने कृषि विभाग से किसानों को किए जा रहे धान बीज, खाद वितरण की जनकारी ली। अब तक किसानो द्वारा किये गए खाद बीज का उठाव, समितियों में रखे भंडारण की भी जानकारी ली। किसानों के कल्याण के लिए संचालित विभिन्न योजनाओं से लाभान्वित कराने कहा।  उन्होंने यह सुनिश्चित करने कहा है कि कोई भी किसान योजनाओं का लाभ लेने अनावश्यक परेशान न हो। किसानों को मिलने वाली सब्सिडी सीधे उसके खातों में जमा हो। किसानों को धान के साथ-साथ दलहन, तिलहन फसल लेने, वर्षा जल को संग्रहित करने हेतु प्रेरित किया जाए। किसानों को समय समय पर फसल उत्पादन बढ़ाने और कीट व्याधियो से बचाव हेतु सुझाव दे। उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों को अपने मैदानी अमलो के साथ क्षेत्र का नियमित भ्रमण कर किसानों के सम्पर्क में रहकर उनका आवश्यक सहयोग करने कहा है।
मंत्री श्रीमती भेड़िया ने लोक निर्माण विभाग, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत जिले में कराए जा रहे सभी प्रकार के निर्माण कार्यो की जानकारी लेकर सभी स्वीकृत कार्यो को पूर्ण गुणवत्ता के साथ समय सीमा में पूर्ण कराने के निर्देश दिए। किसी प्रकार की अनियमितता या लापरवाही नही करने की हिदायत दी है। अधूरे निर्माण कार्यो को शीघ्र पूर्ण करने  अप्रारम्भ कार्यो को शुरू करने भी कहा है। तकनीकी एवं सभी प्रकार की लगने वाली जरूरी उपायों का अनिवार्य पालन करने कहा। जिन स्वीकृत कार्यो के लिए अब तक निविदा नही हुई है ऐसे कार्यो के लिए शीघ्र निविदा आमंत्रित कर प्रारंभ करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जल संसाधन विभाग की समीक्षा में पेयजल की आवश्यकता वाले गांवों में शीघ्र बोर खनन करे। विधायक श्री कुंवर सिंह निषाद ने हीरू खपरी और रिवागहन सहित अन्य ग्रामो में पेयजल की गंभीर समस्या का जिग्र किया। विधायक ने कहा कि एक महीने से इस संबंध में विभाग को अवगत कराया जा रहा है। विभाग इसमें गंभीरता नही दिखा रहा है। उन्होंने 3 दिन का समय देते हुए अंतिम रूप चेतावनी दी है कि समस्या का समाधान न होने पर विभाग पर जवाबदेही तय होगी। जनाक्रोश उतपन्न होने की दशा में अधिकारी जिम्मेदार होंगेमंत्री श्रीमती भेड़िया ने आदिवासी विकास विभाग से कहा कि छात्रावासों एवं आश्रमो में बच्चों का प्रवेश रिक्तियों के आधार पर करे। जिले में 66 बालक एवं 20 बालिका छात्रावास एवं आश्रम संचालित है। जहाँ बच्चों को आवास के साथ ही भोजन व छात्रवृत्ति भी दी जाती है। श्रम विभाग के माध्यम से सभी पात्र श्रमिको का पंजीयन कर विभागीय योजनाओं से लाभान्वित करने एवं दुर्घटना सम्बंधी प्रकरणो में बीमा की राशि स्वीकृत करने के लिए तत्काल कार्यवाही कर पीड़ित परिवार को राहत देने निर्देशित किया है। श्रमिको के पंजीयन एवं सामग्री वितरण हेतु शिविर लगाने भी कहा है।
इसी प्रकार मंत्री श्रीमती भेड़िया ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, आबकारी, क्रेडा विभाग की भी समीक्षा की। स्कूल शिक्षा विभाग को नवाचार के साथ बच्चों का शिक्षा का स्तर बढ़ाने पर जोर दिया है। निर्धारित समय तक शिक्षकों की उपस्थित सुनिश्चित करने कहा है। शालाओ का नियमित निरीक्षण के साथ साथ बच्चों में विविध गतिविधि, मनोरंजन, खेल, विज्ञान व अभिरुचि से संबंधित कार्यक्रम का आयोजन कर बच्चो में विभिन्न क्षेत्रों में पारंगत करने भी कहा गया है। बैठक में बालोद विधानसभा क्षेत्र की विधायक श्रीमती संगीता सिन्हा, कलेक्टर श्रीमती रानू साहू, वनमण्डलाधिकारी श्रीमती सतोविशा समाजदार, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डी.आर.पोर्ते सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद थे।