अलीगढ़ : टप्पल में ढाई साल की बच्ची की नृशंस हत्या के बाद अलीगढ़ के लोगों में गुस्‍सा साफ दिखाई दे रहा है. रविवार को मामले में बुलाई गई महापंचायत रद्द होने के बाद लोग बच्‍ची के परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए बड़ी संख्‍या में प्रदर्शन कर रहे हैं. इस तनाव को देखते हुए इलाके में बड़ी संख्‍या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है. 
बता दें कि इस सिलसिले में पुलिस ने अब तक 4 लोगों को गिरफ्तार किया है. इसमें मुख्य आरोपी जाहिद, उसकी पत्‍नी शगुफ्ता, भाई मेहंदी हसन और असलम शामिल हैं. वहीं इस हत्‍याकांड को लेकर आज बुलाई गई महापंचाय‍त को रद्द कर दिया गया है. इलाके में तनाव को देखते हुए और सुरक्षा व्‍यवस्‍था बनाए रखने के लिए भारी पुलिस फोर्स तैनात किया गया है. इसमें पीएसी, यूपी पुलिस के सिपाही और आरएएफ के सिपाहियों को तैनात किया गया है. करीब 1200 पुलिसवाले टप्‍पल में तैनात हैं.

पुलिस और अर्धसैनिक बलों की ओर से इलाके में तनाव को देखते हुए फ्लैग मार्च भी किया गया है. पुलिस ने पीडि़त परिवार और आरोपी के घर से 200 मीटर पहले ही बेरीकेडिंग कर दी है. साथ ही धारा 144 के उल्‍लंघन पर 5 लोगों को हिरासत में लिया है.

पुलिस ने मुख्‍य आरोपी जाहिद और असलम को पहले ही गिरफ्तार किया था. शनिवार सुबह जाहिद की पत्‍नी शगुफ्ता और भाई मेहंदी हसन को एसआईटी ने गिरफ्तार किया. अलीगढ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने बताया कि पुलिस आरोपियों के खिलाफ मजबूत केस बना रही है ताकि यह सभी कानूनी प्रक्रियाओं पर खरा उतरे और फास्ट ट्रैक कोर्ट के जरिए तेजी से न्याय सुनिश्चित हो सके. सभी संदिग्धों के फोन रिकार्ड चेक किए जा रहे हैं. कुलहरि शुक्रवार देर रात तक घटनास्थल पर मौजूद थे.