कोलंबो । दूसरी बार भारत की कमान संभालने के बाद सबसे पहले प्रधानमंत्री मोदी रविवार को श्रीलंका के दौरे पर पहुंचे। श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने एयरपोर्ट पर उनका स्वागत किया। पीएम मोदी इसके बाद कोलंबो के एंथनी चर्च पहुंचे, जहां उन्होंने ईस्टर धमाके में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी। मोदी ईस्टर के मौके पर हुए विस्फोटों के बाद श्रीलंका की यात्रा करने वाले किसी भी देश के पहले नेता हैं। इस हमले में 250 लोगों की मौत हो गई थी जिनमें 11 भारतीय थे। बता दें कि पीएम मोदी श्रीलंका के संक्षिप्त दौरे पर पहुंचे हैं। उनका श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना के साथ मुलाकात का कार्यक्रम है। इसके बाद वह श्रीलंका के विपक्षी नेता महिंदा राजपक्षे और फिर तमिल राष्ट्रीय गठबंधन के नेताओं के साथ भी मुलाकात करेंगे। पीएम मोदी की श्रीलंका की यह तीसरी यात्रा है। इससे पहले, उन्होंने 2015 और 2017 में श्रीलंका की यात्रा की थी।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा था कि शनिवार से शुरू हो रही मालदीव और श्रीलंका की उनकी यात्रा से भारत द्वारा 'पड़ोसी पहले' नीति को दिया जाने वाला महत्व प्रतिबिंबित होता है और इससे समुद्र से घिरे दोनों देशों के साथ द्विपक्षीय संबंध और मजबूत होंगे। पीएम मोदी ने ईस्टर हमलों की आलोचना करते हुए कहा कि भारत के लोग श्रीलंका के लोगों के साथ मजबूती से खड़े हैं, जिन्होंने ईस्टर के दिन भीषण आतंकवादी हमले के मद्देनहर बड़ी पीड़ा और विनाश का सामना किया। उन्होंने कहा, हम आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में श्रीलंका का पूर्ण समर्थन करते हैं।