गाजियाबाद । उत्तर प्रदेश में साल 2016 में सपा शासनकाल के दौरान बने हज हाउस पर बिजली चोरी और पुराना बिजली बिल न चुकाने का आरोप लगा है। आरोप है कि हज हाउस में कटिया डालकर बिजली चोरी की जा रही है। इसके अलावा पुराना लगभग 13 लाख में काबिल भी अब तक बकाया है जो भरा नहीं गया। गौरतलब है कि पीएसी की 44 वीं बटालियन मेरठ की कंपनी फिलहाल हज हाउस में रुकी हुई है। दरअसल सपा के शासनकाल के दौरान साहिबाबाद और गाजियाबाद में हज हाउस बनाया गया था। साल 2016 में 40 करोड़ की लागत से बने इस हज हाउस का लोकार्पण किया गया था। जिसके बाद से एक बार यहां हज यात्रियों का जत्था भी रुक  चुका है।  परंतु लगातार कई महीनों से बिजली का बिल न भरने की वजह से अक्टूबर 2018 में हज हाउस की बिजली काटी जा चुकी है। गौरतलब है कि बिल की बकाया राशि कुल 12.79 लाख है। इतना ही नहीं सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट नियम अनुसार ना होने की वजह से फरवरी 2018 में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड हज हाउस को सील भी कर चुका है। सी एंड डीएस एजेंसी द्वारा हज हाउस का निर्माण कराया गया था जिसके प्रोजेक्ट मैनेजर डीके भारद्वाज का कहना है कि यहां से एक जत्था जवान रवाना हो चुका है। ऐसे में बिल की रकम हज हाउस कमिटी को ही भरनी चाहिए। जबकि यूपी हज कमेटी सबसे विनीत श्रीवास्तव का कहना है कि हज हाउस अभी हमें हैंड ओवर भी नहीं हुआ तो हम भेल कैसे भर दे और अभी काम भी अधूरा है।