नई दिल्लीः खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के मुताबिक खालिस्तानी समर्थक आतंकी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल (BKI) ब्रिटेन में अपना नेटवर्क मजबूत करने में लगा हुआ है .रिपोर्ट के मुताबिक बीकेआई ने  ब्रिटेन के बर्मिंघम ,डर्बी और कोवेंट्री के कई इलाकों में अपना नेटवर्क बढाया है . पाकिस्तान की आइएसआई बीकेआई को फंडिंग कर रही है और और ब्रिटेन समेत दुनिया के कई देशो में वो खालिस्तानी समर्थको और उससे जुड़े आतंकी नेटवर्क को मजबूत करने में लगी है . भारतीय एजेंसियों को शक है कि बीकेआई  ने ब्रिटेन के कई धार्मिक स्थानों में भी अपनी मौजूदगी बढ़ाने में लगा हुआ है जिससे वो पंजाब को एक बार फिर से निशाना बना सके.

देखा जाये तो बीकेआई को आइएसआई लगातार फंडिंग करने में लगी हुई है . ब्रिटेन में काफी ज्यादा संख्या में भारतीय लोग रहते है और उनमे से एक बड़ी तादाद पंजाब से भी गए लोगो की है आइएसआई बीकेआई की मदद से इन्ही लोगो के बीच अपना पैठ बनाने की साजिश में लगी हुई है जिससे कुछ लोगो ब्रेन वाश कर अपने संघटन से जोड़ा जा सके और भारत में आतंकी हमले कराये जा सके.
गृह मंत्रालय से जुड़े एक अधिकारी के मुताबिक ब्रिटेन में काफी दिनों से भारत विरोधी गतिविधियों में पाकिस्तान की आइएसआई शामिल रही है  और भारत के खिलाफ कई विरोध पर्दशन कराने के पीछे भी उनकी भूमिका रही है. पाकिस्तान लगातार खालिस्तानी समर्थको को भारत के खिलाफ मजबूत करने में लगा हुआ है .

बीकेआई ब्रिटेन के सभी धार्मिक स्थानों में अपनी पैठ बनाना चाह रहा है और ब्रिटेन के ग्रेट बार ,डर्बी और कोवेंट्री जैसे इलाकों में वो अपनी पहुँच पहले ही बना चुका है भारत ब्रिटेन में बढ़ रहे खालिस्तान से जुड़े गतिविधियों का मामला पहले भी ब्रिटेन के सामने कई बार उठा चुका है लेकिन उसके बावजूद पाकिस्तान के साजिश अब भी जारी है .पिछले कुछ दिनों में ख़ुफ़िया एजेंसीज ने इससे जुड़े कई रिपोर्ट सरकार को भेजे थे जिसमे कहा गया था कि 

आईएसआई फर्जी डाक्यूमेंटस को अलग अलग ग्रुपों के जरिये भारतीय सोशल मीडिया पर वायरल करने में लगी हुई है. पिछले दिनों भारतीय  सेना के मिलिट्री इंटेलिजेंस से जुड़ा एक फेक लैटर सामने आया था जिसमें कहा गया था कि भारतीय सेना में जो सिख जवान है उन पर नज़र रखी जा रही है . आईएसआई  इस काम के लिए अलगवादी गुट सिख फॉर जस्टिस की मदद ले रही है ,फर्जी लैटर सामने आने के बाद एक खास प्लानिंग के जरिये सिख फॉर जस्टिस ने पिछले दिनों सेना के खिलाफ दुनिया के कई देशो में प्रदशर्न किया था और भारतीय सेना को बदनाम करने की कोशिश की थी ,सेना ने बाद में इस रिपोर्ट को गलत  बताया था और सिख फॉर जस्टिस ने जिस मिलिट्री इंटेलिजेंस से जुड़े लैटर पर विरोध किया था उसे फर्जी बताया था .

रिपोर्ट के मुताबिक देश में रह रहे है सिख युवकों को भारत के खिलाफ भड़काने के लिए आईएसआई अलगवादी गुट  सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) की मदद ले रही है .हम आपको बता दे कि  सिख फॉर जस्टिस को आईएसआई फंडिंग कर रही है  जो इसके जरिये पूरी दुनिया में रह रहे सिख समुदाय से जुड़े लोगो को भारत के खिलाफ भड़काने  की साजिश में लगी हुई है .

देखा जाये तों आईएसआई की नज़र पाकिस्तान में करतारपुर साहिब  दर्शन के लिए जाने वाले भारतीयो पर भी नज़र है जो  सिख फॉर जस्टिस  गुट के मदद से भारत के खिलाफ गलत दुष्प्रचार करने की साजिश में लगी है .इस काम में तेज़ी लाने के लिए पिछले दिनों  आईएसआई ने लाहौर में सिख फॉर जस्टिस का दफ्तर खुलवाया है .आईएसआई ने हाफिज सईद की आतंकवादी संस्था जमात उद दावा और सिख फॉर जस्टिस के बीच बेहतर तालमेल के लिए कई राउंड की बैठक करवा चुकी है .

भारतीय एजेंसीज को शक है कि आईएसआई इन अलगवादी गुटों की मदद से पंजाब में एक बार फिर से आतंकी हमले करवाना चाहती है पाकिस्तान में अभी भी कई खालिस्तानी समर्थित आतंकी गुट मौजूद है और आईएसआई  सिख फॉर जस्टिस की मदद से सिख युवकों का ब्रेनवाश कर भारत के खिलाफ आतंकी हमलो के लिए इस्तेमाल करना चाहती है .आईएसआई और सिख फॉर जस्टिस की मदद से भारतीय सेना और भारत के बारे में सिख युवकों के बीच दुष्प्रचार की कोशिश में लगी है जिस तरह से एक के बाद एक फर्जी लैटर सोशल मीडिया पर जरी किये जा रहे है इससे जाहिर होता है की पाकिस्तान एक बार फिर से पंजाब को अस्थिर करने की पूरी कोशिश में लगा हुआ है .