इन्दौर ।  जंजीरावाला चैराहा स्थित मोहता भवन पर आगामी 11 जुलाई से राष्ट्र संत, पद्मविभूषण प.पू. आचार्यदेव रत्नसुंदर सूरीश्वर म.सा. एवं आदिठाणा का चातुर्मास हेतु भव्य मंगल प्रवेश होगा। कंचनबाग से आचार्यश्री का सामैया निकाला जाएगा। मोहता भवन को श्रीभुवन भानुसूरी प्रवचन वाटिका नाम दिया गया है। यहां चातुर्मास के 4 माह लगातार विभिन्न आयोजन आचार्यश्री की पावन निश्रा मंे होंगे। इसके लिए आज सुबह आचार्य युगसुंदर सूरीश्वर म.सा. की निश्रा में भूमि खनन एवं शुद्धिकरण मुहूर्त संपन्न हुआ। 
इस अवसर पर समाजसेवी डॉ. प्रकाश बांगानी, विजय मेहता, कल्पक गांधी ने विधिकारक अरविंद चैरड़िया के निर्देशन में क्षेत्रपाल आव्हान, अष्टप्रकारी पूजा एवं अन्य विधि विधान कर भूमि शुद्धिकरण किया। कार्यक्रम मंे दिलीप सी जैन, प्रकाश वोरा, यशवंत जैन, देवाशीष कोठारी, आशीष शाह, कीर्तिभाई डोसी, राकेश मानावत, अनिल रांका, पुखराज बंडी, जयेश शाह, दिलीप कमानी, दिलीप जैन, नीलेश सकलेचा एवं अनेक विशिष्टजन उपस्थित थे। मोहता भवन परिसर में 11 जुलाई से राष्ट्रसंत आचार्य रत्नसुंदर सूरीश्वर म.सा. का चातुर्मासिक मंगल प्रवेश होगा। मंगल प्रवेश सामैया कंचनबाग से श्रेष्ठीवर्य हिम्मतभाई गांधी परिवार के निवास से प्रारंभ होकर मोहता भवन आएगा जहां 15 जुलाई से चातुर्मासिक अनुष्ठान प्रारंभ होंगे तथा पूरे चार माह तक विभिन्न आयोजन किए जाएंगे। उल्लेखनीय है कि आचार्य रत्नसुंदर म.सा. करीब 15 वर्षों के अंतराल के बाद इस नगरी में पधारे हैं। चातुर्मास के लिए उनके साथ साधु-साध्वी भगवंत भी मोहता भवन पधारेंगे। अनुष्ठान की तैयारियां युद्धस्तर पर की जा रही हैं।