नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने घोषणा की है भारत 2022 में अपना पहला मानव मिशन को अंतरिक्ष में भेजेगा. केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि 2022 में भारत की 75 वीं स्वतंत्रता वर्षगांठ के अवसर पर इसरो ने अपने पहले मानव मिशन को अंतरिक्ष में भेजने का संकल्प लिया है. 

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मिशन की तैयारी, योजना की निगरानी के लिए एक विशेष सेल गगनयान राष्ट्रीय सलाहकार परिषद बनाया गया है. इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सुरक्षा के क्षेत्र में विशेष रूप से सीमा क्षेत्र में घुसपैठ की जांच करने के लिए हमने उपग्रह के माध्यम से कम्प्यूटरीकृत निगरानी सुविधा की है जिसकी प्रोग्रामिंग ऐसी है कि अलार्म के माध्यम से सुरक्षा बल सतर्क हो जाते हैं. 

खुद का स्पेस स्टेशन तैयार करेगा भारत
वहीं इसरो प्रमुख के सिवन ने गुरुवार को कहा कि भारत खुद का अंतरिक्ष स्टेशन लॉन्च करने की योजना बना रहा है.  यह महत्वाकांक्षी परियोजना गगनयान मिशन का विस्तार होगी. 

सिवन ने कहा, ‘हमें मानव अंतरिक्ष मिशन लॉन्च करने के बाद गगनयान कार्यक्रम को बनाए रखना होगा और इस संदर्भ में भारत खुद का अंतरिक्ष स्टेशन तैयार करने की योजना बना रहा है.'

इससे पहले बुधवार को इसरो प्रमुख ने घोषणा की थी कि चंद्रमा की सतह पर खनिजों के अध्ययन और वैज्ञानिक प्रयोग करने के लिए भारत के दूसरे चंद्र अभियान, ‘चंद्रयान-2’ को 15 जुलाई को रवाना किया जाएगा.

सिवन ने बताया था कि यह चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास छह या सात सितंबर को उतरेगा. चंद्रमा के इस हिस्से के बारे में अभी ज्यादा जानकारी नहीं हासिल है. चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण श्रीहरिकोटा स्थित अंतरिक्ष केंद्र से 15 जुलाई को तड़के दो बज कर 51 मिनट पर होगा. जीएसएलवी मार्क-3 रॉकेट इसे लेकर अंतरिक्ष में जाएगा.