नई दिल्लीः पुरानी दिल्ली के हौज काजी इलाके स्थित दुर्गा मंदिर में बुधवार सुबह फिर से पूजा शुरू हो गई. इलाके में 30 जून को हुई हिंसा के बाद से करीब 100 साल पुराने इस मंदिर में पिछले दो दिन से पूजा अर्चना नहीं हो रही थी. यहां कुछ उपद्रवियों ने मंदिर में तोड़फोड़ की थी. जिसके बाद से इलाके में दो समुदायों के बीच तनाव पैदा हो गया. पुलिस ने मंदिर में तोड़फोड़ करने वाले 3 युवकों को गिरफ्तार कर लिया है. पिछले दो दिनों से इलाके में लगातार चौकसी के बीच दोनों समुदाय के लोगों को समझा-बुझाकर इस मामले को सुलझा लिया गया है. 

आज सुबह मंदिर में आरती हुई.


मंगलवार को हिंदू रक्षा दल के सैकड़ों कार्यकर्ता  उस जगह पहुंचे जहां मंदिर में तोड़फोड़ की गई थी. हिंदू रक्षा दल के लोगों ने पहले 'जय श्री राम' और 'हर-हर महादेव' का जयघोष किया. फिर बीच सड़क पर बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ किया. पाठ करने के बाद सभी लोग नारे लगाते हुए निकले. लॉ एंड आर्डर देख रही दिल्ली पुलिस ने सभी को हटाया ताकि इलाके में शांति बहाल हो सके. 

इलाके में शांति बहाल करने के लिए दिल्ली पुलिस के तामाम आला अधिकारी पूरे दिन अमन कमिटी के साथ मीटिंग की. दोनों पक्षों ने शांति बहाल करने के लिए साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की. कमिटी में तारा चंद सक्सेना और जमशेद अली सिद्दीकी मौजूद थे. जमशेद सिद्दिकी ने कहा, "आरोपियों के खिलाफ पुलिस सख्त करवाई करे और मंदिर में जो तोड़फोड़ हुई है, उसके निर्माण में मुस्लिम समाज हर संभव मदद करेगा. कल से मंदिर में पूजा शुरू की जाएगी. दोनों समाज शांति बहाल करने के प्रयास कर रहे हैं. बाजार भी बुधवार से खोला जाएगा."


पुलिस से इलाके में सुरक्षा की मांग भी की गई है. वहीं जिले के डीसीपी एमएस रंधवा का कहना है कि अमन कमिटी के साथ मीटिंग के बाद शांति बहाल की कोशिश कि जा रही है. सुरक्षा बढ़ा दी गई है. समय-समय पर रिव्यू भी करेंगे.

इससे पहले, स्थानीय सांसद डॉ. हर्षवर्धन ने क्षेत्र का दौरा किया. लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की. स्थानीय निवासियों का कहना है कि रविवार की रात पार्किंग को लेकर दो समुदायों के बीच हुई झड़प के बाद मंगलवार की सुबह तक भी क्षेत्र में तनाव बना रहा. पुलिस का कहना है कि वह स्थिति पर काबू रखने के लिए ड्रोन कैमरा के जरिए नजर बनाए हुए है. मंगलवार को स्थानीय सांसद हर्षवर्धन ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है. क्षेत्रीय सांसद एवं केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने क्षेत्र का दौरा किया. 

स्थानीय निवासियों का कहना है कि रविवार की रात पार्किंग को लेकर दो समुदायों के बीच हुई झड़प के बाद मंगलवार की सुबह तक भी क्षेत्र में तनाव बना रहा. पुलिस का कहना है कि वह स्थिति पर काबू रखने के लिए ड्रोन कैमरा के जरिए नजर बनाए हुए है. कुछ स्थानीय निवासियों का कहना है कि पुलिस व अर्धसैनिक बलों की तैनाती के बावजूद दोनों ही समुदाय के लोगों की तरफ से पथराव किया गया. 
पूर्वी दिल्ली से बीजेपी सांसद गौतम गंभीर ने भी दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है. साथ ही उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की. गंभी ने एक ट्वीट में लिखा, "जिन लोगों ने हमारे धार्मिक स्थलों पर हमला किया है, और अगर वे सोचते हैं कि हमें बांट सकते हैं, तो वो लोग गलत हैं. हम धार्मिक एकता को टूटने नहीं देंगे जो कि भारत की संस्कृति में रची बची है. दोषियों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. मैं लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं." उन्होंने अपने ट्वीट का समापन #TempleTerrorAttack हैशटैग के साथ किया. मंगलवार को दिनभर #TempleTerrorAttack टॉप ट्रेंड पर रहा. 
हौज काजी में लाल कुआं क्षेत्र बड़ा थोक बाजार है जहां इस विवाद के बाद दुकाने पूरी तरह से बंद रहीं. एक निवासी ने कहा कि पुलिस की मौजूदगी के बावजूद स्थिति सामान्य नहीं हो पाई है। दोनों ही पक्षों की ओर से आपत्तिजनक नारे लगाए जा रहे हैं. 
उधर, सेंट्रल दिल्ली के डिप्टी पुलिस कमिश्नर ने एक ट्वीट में कहा, "हौज काजी में पार्किंग विवाद के बाद दो समुदायों में तनाव हुआ. हमने कानूनी कार्रवाई की है और शांति बनाए रखने के पूरे प्रयास किए जा रहे हैं. लोगों के अनुरोध है कि वे हालात सामान्य बनाने में पुलिस का सहयोग करें."