अच्छी सेक्शुअल लाइफ के लिए जैसे कॉन्डम जरूरी होते हैं वैसे ही कई समस्याों से बचने के लिए इनका सही साइज भी जरूरी होता है। साइज में बड़ा कॉन्डम पहनने से गिरने का खतरा रहता है वहीं कॉन्डम छोटा है तो इसके फटने का खतरा रहता है। यहां हैं कुछ टिप्स जिनसे आप सेक्स का मजा खुलकर ले सकते हैं...
सेक्स के लिए कॉन्ट्रसेप्शन बेहद जरूरी है और इसके लिए कॉन्डम सबसे जरूरी हैं। अगर फिटिंग सही नहीं है तो असहज महसूस तो होता ही है साथ ही आपको सेफ्टीसे भी कॉम्प्रोमाइज करना पड़ता है। इसलिए जरूरी है कि साइज सही चुनें।
कपड़ों की तरह कॉन्ट्रासेप्शन का साइज भी मैटर करता ह। कॉन्डम स्मॉल, मीडियम, लॉन्ग और स्लिम आते हैं। सबसे जरूरी बात है कि यह याद रखना चाहिए हर किसी के लिए एक ही साइज फिट नहीं होता। मीडियम साइज का ही कॉन्डम कई लोगों को अलग-अलग फिट हो सकता है। अगर आप तय नहीं कर पा रहे तो अलग-अलग वरायटी के पैक इस्तेमाल कर सकते हैं।
सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपना साइज नाप लें। डॉक्टर्स और एक्सपर्ट्स की सलाह है कि बेहतर होगा कि टेप से नाप लें। यह भी ध्यान रखें कि कॉन्डम आराम से फिट हो और बेस की तरफ खींचने पर फटे नहीं।
कॉन्डम खरीदना आसान काम नहीं है और वरायटी का भी ध्यान रखना पड़ता है। कॉन्डम्स लैंबस्किन, सिलिकॉन, पॉलियथेरेन और लेटेक्स के मिलते हैं लेकिन अपनी और पार्टनर की ऐलर्जी का ध्यान जरूर रखना चाहिए।