जगदलपुर । लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी और ग्रामोद्योग मंत्री गुरू रूद्रकुमार ने शनिवार की शाम को कमिश्नर कार्यालय में ग्रामोद्योग और उसके विभिन्न घटकों के कार्यो की संभागस्तरीय समीक्षा की। उन्होंने कहा कि ग्रामोद्योग विभाग और इसके विभिन्न घटकों में रोजगारमूलक गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाए, ताकि लोग आर्थिक रूप से स्वावलंबी बन सकें। उन्हांेने शिल्पियों और बुनकरों के उत्पादों के विक्रय के लिए बेहतर मार्केटिंग की व्यवस्था करने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए।
ग्रामोद्योग मंत्री ने रेशम प्रभाग की समीक्षा करते हुए कहा कि वे ज्यादा से ज्यादा कोसा पालन केन्द्र विकसित करें और स्थानीय समूहों को रेशम पालन से जोड़ें। रेशम धागाकरण के लिए भी लोगों को प्रशिक्षण दिया जाए। उन्हांेने कहा कि बस्तर अंचल में नैसर्गिक रूप से रैली ककून बहुतायात से होता है। इससे स्थानीय लोगों को अच्छी आमदनी हो सकती है। ककून संग्रहण के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को प्रोत्साहित किया जाए।  गुरू रूद्रकुमार ने हाथकरघा प्रभाग की समीक्षा में करते हुए कहा हाथकरघा में नये तकनीक का प्रयोग किया जाए। इसके लिए परम्परागत बुनकरों के अलावा नये लोगों को भी प्रशिक्षण दिया जाए। उन्होंने कहा कि खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के माध्यम से अनेक रोजगारमूलक योजनाएं संचालित है। इन योजनाओं में सभी जिलों के लिए लक्ष्य निर्धारित है। इन लक्ष्यों को पूरा करने के लिए गंभीरतापूर्वक प्रयास करें। खनिज, वन और कृषि आधारित उद्योगों को बढ़ावा दिया जाए। हस्तशिल्प प्रभाग की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि बस्तर का हस्तशिल्प जैसे बांस शिल्प, तूम्बा शिल्प  और काष्ठ शिल्प पूरे देश में मशहूर है। इन कलाओं से अधिक से अधिक युवाओं को जोड़ने की जरूरत है। आवश्यकतानुसार शिल्पियों को प्रशिक्षण की व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि हाथकरघा और हस्तशिल्प के एम्पोरियम हैं, वहां दूसरे घटकों के उत्पादों के भी विक्रय और प्रदर्शन की व्यवस्था की जाए।  बैठक में अधिकारियों ने मानव संसाधन की कमी होने के कारण कार्य में दिक्कत होने की जानकारी दी। इस पर ग्रामोद्योग मंत्री ने पूरी जानकारी और प्रस्ताव विभाग को भेजने के निर्देश दिए। 
बैठक में  खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के प्रबंध संचालक आलोक अवस्थी, छत्तीसगढ़ माटी कला बोर्ड के प्रबंध संचालक श्री सुधाकर खलखो, अपर संचालक हाथकरघा श्री एन.के. चन्द्राकर सहित विभिन्न घटकों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।