नई दिल्‍ली : यूपी के यमुना एक्‍सप्रेस-वे पर सोमवार अलसुबह 4:30 बजे बड़ा हादसा हुआ है. लखनऊ से दिल्‍ली की ओर आ रही यूपी रोडवेज की डबल डेकर बस आगरा के पास झरना नाले में गिर गई. इस हादसे में 29 लोग घायल हुए हैं. साथ ही 20 से अधिक यात्री घायल हैं, जिनका इलाज चल रहा है. इस हादसे को गंभीरता से लेते हुए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने सोमवार को जांच के आदेश दिए हैं. उन्‍होंने इस हादसे की जांच के लिए कमेटी का गठन करने का आदेश दिया है. 

बस हादसे की जांच करने वाली कमेटी में परिवहन आयुक्‍त, डिविजनल कमिश्‍नर और आईजी आगरा शामिल होंगे. तीन लोगों की यह कमेटी 24 घंटे में हादसे की जांच करके अपनी रिपोर्ट सौंपेगी. यह कमेटी भविश्‍य में ऐसे हादसों से बचने के लिए जरूरी उपाय और कदम भी सुझाएगी. 

 


मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने उप मुख्‍यमंत्री दिनेश शर्मा और स्‍वतंत्र देव सिंह को घटनास्‍थल और अस्‍पताल का मुआयना करने के निर्देश दिए हैं. दिनेश शर्मा और परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह लखनऊ से आगरा के लिए चार्टर्ड प्लेन से रवाना हो गए हैं. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी जिलाधिकारी से इस हादसे के संबंध में बात की है. उन्‍होंने डीएम को घायलों के इलाज के लिए  सभी जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए हैं.

बता दें कि हादसे का शिकार हुई बस का नंबर UP33 8T 5877 है. हादसे में मरने वाले यात्रियों के परिवारवालों के लिए यूपी रोडवेज की ओर से मुआवजे का एलान किया गया है. यूपी रोडवेज की ओर से पीडि़त परिवारों को 5-5 लाख रुपये मुआवजा दिया जाएगा.

हादसे पर आगरा के जिलाधिकारी एनजी रवि कुमार ने जानकारी दी है. उनके मुताबिक यह हादसा सोमवार अलसुबह 4:30 बजे हुआ है. हादसे के वक्‍त बस में करीब 40 लोग सवार थे. इनमें से 29 लोगों की मौत हुई है. आशंका है कि हादसा बस के डाइवर की नींद लगने के कारण हुआ है. सर्च और रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन जारी है.


घायलों को बस से निकालने के लिए राहत और बचाव कार्य जारी है. जानकारी के अनुसार अवध डिपो की इस डबल डेकर बस में करीब 52 लोग सवार थे. गाजीपुर रुट की बस को दिल्ली रुट पर भेजा गया था. दिल्ली के यात्रियों की संख्या ज्यादा होने के कारण बस को दिल्ली भेजा गया था. बस रविवार रात 11:30 बजे लखनऊ से रवाना हुई थी. चालक कृपा शंकर और परिचालक सुनील कुमार बस को लेकर दिल्ली रवाना हुए थे. हादसे में मरने वाले अधिकतर यात्री लखनऊ के निवासी बताए जा रहे हैं.