लखनऊ । प्रदेश में बिना लाइसेन्स के मदिरा की बिक्री करने वाले तथा लाइसेन्स की अवधि का दुरुपयोग करने वाले बिक्री केन्द्रों को चिह्नित करने के साथ आबकारी निरीक्षक एवं जिला आबकारी अधिकारी अपने कार्य क्षेत्र के सभी बिक्री केन्द्रों का भौतिक चिह्नांकन कर उनका सूचीकरण करते हुए नियमों का अनुपालन करें। यदि प्रदेश में कोई भी बार अथवा दुकान बिना लाइसेन्स के संचालित होगी, तो उत्तरदायी अधिकारी एवं कर्मचारी के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जायेगी। 
यह निर्देश प्रदेश के प्रमुख सचिव आबकारी संजय आर. भूसरेड्डी ने विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक के दौरान दिए। भूसरेड्डी ने निर्देश दिये कि सभी अधिकारी अपने क्षेत्र एवं सेक्टर में यह सुनिश्चित करें कि अवैध मदिरा एवं मिलावटी शराब तथा अन्य प्रांतों से अनियमित आयातित मदिरा की बिक्री न हो। इस संबंध में जीरो टॉलरेन्स की नीति अपनाते हुए संबंधित अधिकारी एवं कर्मचारी व्यक्तिगत उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्थापित आबकारी दुकानों की चैहद्दी के संबंध में यह सुनिश्चित किया जाये कि ये दुकानें निर्धारित चैहद्दी में संचालित हो रही हैं एवं नियमों के अनुरूप अनुमन्य से अधिक दरवाजे नहीं हैं। भूसरेड्डी ने विभाग के 50 वर्ष से अधिक उम्र के अधिकारियों एवं कर्मचारियों की अनिवार्य सेवानिवृत्ति किये जाने के लिए प्रस्ताव उपलब्ध कराने की कार्यवाही सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये।