नई दिल्ली: भारत और न्यूजीलैंड मंगलवार को खेला गया विश्व कप का सेमीफाइनल मुकाबला अधूरा छूटा. इस मुकाबले में जब न्यूजीलैंड ने 46.1 ओवर में पांच विकेट पर 211 रन बनाए थे, तभी बारिश आ गई. यह बारिश लगभग पूरे दिन जारी रही और खेल दोबारा शुरू नहीं हो सका. अब यही मुकाबला रिजर्व डे यानी, बुधवार को खेला जाएगा. नियमानुसार यह खेल उसी स्कोर से आगे बढ़ेगा, जहां पर रुका है. यानी, न्यूजीलैंड को 3.5 ओवर की बैटिंग और मिलेगी. इसके बाद भारत अपनी पारी खेलेगा. विश्व कप में यह पहला मौका नहीं है, जब भारत कोई मुकाबला रिजर्व डे पर यानी लगातार दूसरे दिन खेलेगा. ऐसा 1999 के विश्व कप में भी हो चुका है. 

1999 में भी विश्व कप की मेजबानी इंग्लैंड ने ही की थी. उस वर्ल्ड कप में सिर्फ नॉकआउट ही नहीं, बल्कि हर मैच के लिए रिजर्व डे रखे गए थे. यही कारण था कि जब भारत और इंग्लैंड का ग्रुप मैच बारिश के कारण पहले दिन खत्म नहीं हुआ तो इसे रिजर्व डे पर यानी दूसरे दिन पूरा किया गया. यह मैच बर्मिंघम में 29 और 30 मई को खेला गया था, जिसे भारत ने 63 रन से जीता था. 
भारत ने इस मैच में पहले बैटिंग करते हुए 8 विकेट पर 232 रन बनाए थे. भारत की ओर से राहुल द्रविड़ ने सबसे अधिक 53 रन बनाए थे. सौरव गांगुली ने 40, अजय जडेजा ने 39 और अजहरुद्दीन ने 26 रन का योगदान दिया था. इसके जवाब में इंग्लैंड ने जब 20.3 ओवर में तीन विकेट पर 73 रन बनाए थे, तभी बारिश आ गई. बारिश दिनभर जारी रही और खेल दोबारा शुरू नहीं हो सका. इसके बाद खेल रिजर्व डे के लिए टाल दिया गया. पहले दिन नासिर हुसैन, एलेक स्टीवर्ट और ग्रीम हिक आउट हुए. 

दूसरे दिन, यानी रिजर्व डे पर जब खेल शुरू हुआ तब भी भारतीय टीम ने शानदार प्रदर्शन जारी रखा. देवाशीष मोहंती, जवागल श्रीनाथ, अनिल कुंबले और सौरव गांगुली ने इंग्लैंड की पारी 169 रन पर समेट दी. मोहंती ने तीन और श्रीनाथ, कुंबले व गांगुली ने दो-दो विकेट लिए. भारतीय गेंदबाजों को मौसम का भी साथ मिला. ज्यादा बारिश के कारण रिजर्व डे के दिन ना सिर्फ ठंड थी, बल्कि हवाएं भी चल रही थीं.