विटामिन डी शरीर के लिए बहुत जरूरी है, यह कैल्शियम के स्तर को नियंत्रित करने का काम करता है। जो 
हड्डियों की मजबूती और तंत्रिता तंत्र की कार्य प्रणाली को सही रखने के लिए बहुत जरूरी है। इसके अलावा विटामिन डी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में भी मददगार है। इसकी कमी से हड्डियां कमजोर होने के साथ-साथ और भी कई तरह के रोग होने का खतरा बढ़ जाता है जिसके लक्षण एकदम ऊभर कर सामने नहीं आते। कई बार तो लोगों को इसकी कमी का पता भी नहीं चल पाता। 
विटामिन डी का स्तर कम होने से हड्डियां कमजोर हो रही हैं, चिकित्सकों का मानना है कि इससे बच्चों में जोड़ों का दर्द, ऑस्टियोपोरोसिस, थकान, हल्की चोट लगने पर भी हड्डी टूट जानाआदि जैसे रोगों के मामले बढ़ गए हैं जो चिंता का कारण हैं। 
क्यों घट रहा है बच्चों में विटामिन डी का स्तर?
बच्चों में विटामिन डी का स्तर कम होने का मुख्य कारण धूप में कम निकलना है।
आउटडोर गेम्स न खेलना
वे घर से बाहर यानि धूप में खेलना पसंद नहीं करते जबकि विटामिन डी का सबसे मुख्य स्त्रोत धूप की किरणें हैं। जब लगातार वे सूरज की किरणों से दूर रहते हैं तो शरीर में विटामिन डी का स्तर घटने लगता है। जिससे हड्डियां कैल्शियम ऑब्जर्व नहीं कर पाती। 
जंक फूड का सेवन 
सही खानपान न होना इसका दूसरा सबसे बड़ा कारण है। बच्चे आजकल जंक फूड, पिज्जा, बर्गर, पैकेज्ड फूड खाते हैं जो पोषक तत्वों की कमी को धीरे-धीरे कम करना शुरू कर देते हैं। इससे शरीर में विटामिन डी जैसे कई जरूरी पोषक तत्व का अभाव रह जाता है। 
विटामिन डी की कमी से होने वाले रोग
हड्डियों की मजबूती कम होना
मांसपेशियों में ऐंठन
अर्थराइटिस
बार-बार संक्रमण होना
सांस लेने में परेशानी
थकावट
त्वचा का रंग पीला पड़ना
पैरों का आकार धनुष जैसा होना
एनिमिया, आदि
किस तरह करें विटामिन डी की कमी पूरी
इसकी कमी को पूरा करने के लिए बच्चे के आहार और जीवनशैली पर जरूर ध्यान दें।
सूरज की किरणें बहुत जरूरी
बच्चे को सुबह के समय धूप में जरूर घर से बाहर निकालें। सूर्य की रोशनी में केवल 10 मिनट खड़े रहने पर ही पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी मिल जाता है। सूरज की किरणें इस कमी को पूरा करने का मुख्य स्त्रोत है जो खाने वाले पदार्थों में आसानी से नहीं मिल पाता। 
विटामिन डी युक्त आहार 
कुछ खाद्य पदार्थों के जरिए इसकी कमी को कुछ हद तक पूरा किया जा सकता है। जंक फूड को अहमियत न देकर बच्चे की डाइट में अंडा, मशरूम, चीज, मछली, कॉड लिवर और फोर्टीफाइड दूध शामिल करें।