भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने आज जारी अपने बयान में कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने संसद में वर्ष 2019-2020 का, जो आम बजट प्रस्तुत किया है, उसमें मध्यप्रदेश राज्य के साथ भेदभाव करते हुए, प्रदेश के हिस्से में से 2677 करोड़ रुपए कम आवंटित किए हैं और आश्चर्य इस बात का है कि मध्यप्रदेश से चुने गए भारतीय जनता पार्टी के 28 सांसदों में से एक ने भी, प्रदेश के साथ हुए इस भेदभाव के विरुद्ध अपनी आवाज नहीं उठाई। ऐसे में कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश के साथ हुए इस भेदभाव को गंभीरता से लेते हुए, इस तुगलकी निर्णय के विरोध में पूरे प्रदेश के जिला मुख्यालयों पर 20 जुलाई को धरना-प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है।                                                                                                                                                                           आज जारी अपने बयान में उक्त जानकारी देते हुए श्रीमती ओझा ने आगे बताया कि इस धरना प्रदर्शन को सफल एवं प्रभावी बनाने के लिए जिला/ब्लॉक के पदाधिकारी, प्रदेश पदाधिकारी,  पूर्व सांसद, विधायक, स्थानीय संस्थाओं के जनप्रतिनिधि, मोर्चा संगठन, विभागों के जिला/प्रदेश पदाधिकारियों सहित कांग्रेस के नेता व कार्यकर्तागण उपस्थित रहेंगे।