रायपुर। नगरीय प्रशासन और श्रम मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने रायपुर जिले के आरंग में नगर स्तरीय प्रतिभा सम्मान समारोह कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है, जरूरत है तो निखारने की। उन्होंने कहा कि आरंग मोरध्वज की नगरी है। यहां के पुरातात्विक और सांस्कृतिक धरोहर विश्व विख्यात है, इसी तरह शिक्षा के क्षेत्र में आरंग को ऐतिहासिक बनाना है। उन्होंने शैक्षणिक रूप से आरंग को मॉडल शहर बनाने सबकी सहभागिता की अपील की। डॉ. डहरिया आरंग स्थित शासकीय कन्या उच्चतर विद्यालय में इस आशय के विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम को सफल बनाने में कौशल साहित्य कला मंच आरंग का सहयोग रहा। 
    उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गांव, गरीब और किसानों के विकास के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों को शासन की जन कल्याणकारी योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार करने और हितग्राहियों को लाभांन्वित करने की अपील की। डॉ. डहरिया आज दो कार्यक्रमों में लगभग 20 करोड़ के विकास कार्यों का भूमि-पूजन किया।
    डॉ. डहरिया इस मौके पर स्कूली छात्राओं को निःशुल्क सायकिल वितरण किया। उन्होंने शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में प्रयोगशाला भवन निर्माण के लिए 12 लाख रूपए की घोषणा की।
    डॉ. डहरिया ने इसके बाद शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भानसोज में आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने भानसोज-जरौद-कलई 8 किलोमीटर लम्बे मार्ग का चौड़ीकरण और मजबूतीकरण कार्य का भूमि-पूजन किया, जिसकी लागत 18 करोड़ 26 लाख रूपए है। डॉ. डहरिया ने आज ही राखी, नया रायपुर स्थित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय राखी में एक करोड़ 21 लाख रूपए स्कूल भवन निर्माण के लिए भूमि-पूजन किया। डॉ. डहरिया ने भ्रमण के दौरान अचानक ग्राम पंचायत जरौद (क) का निरीक्षण किया। उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों और सचिव को नियमित बैठक करने के निर्देश दिए। उन्होंने शासन की योजनाओं का लाभ वास्तविक हितग्राहियों तक पहुंचाने के भी निर्देश दिए।
 इस मौके पर जिला पंचायत रायपुर के अध्यक्ष श्रीमती शारदा वर्मा, नगर पंचायत आरंग की अध्यक्ष श्रीमती करूणा तिवारी, जनपद पंचायत आरंग के अध्यक्ष श्री दिनेश ठाकुर, पूर्व प्राचार्य श्री पी.डी. चतुर्वेदानी, सहाकरी समिति के पूर्व अध्यक्ष श्री मंगलमूर्ति अग्रवाल, श्री विनोद गुप्ता, डॉ. घनश्याम सोनवानी, श्री रेखलाल पात्रे, श्री सुनील बंधे, श्री हरि बंजारे, श्री जितेन्द्र टंडन, श्री दीपक चन्द्राकर, श्री अब्दुल कादिर, श्री नंदकुमार कोशले, श्री अश्वनी साहू, श्री समीर गौरी, श्री उपेन्द्र साहू सहित शिक्षकगण और बड़ी संख्या में स्कूली छात्र-छात्राएं तथा जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।