नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी आज से फ्रांस की दो दिवसीय यात्रा पर रवाना होंगे। फ्रांस के इस दौरे पर 26 अगस्त(रविवार) को पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप(Donald Trump) की मुलाकात होगी। इन दोनों नेताओं की यह मुलाकात फ्रांस में जी 7 शिखर सम्मेलन(G7 Summit) के दौरान होगी। फ्रांस की राजधानी पेरिस में जी 7 शिखर सम्मेलन(G7 Summit) से इतर दोनों नेताओं की मुलाकात होगी। इस दुविपक्षीय बैठक से पहले राष्ट्रपति ट्रंप ने एकबार फिर कहा है कि वह कश्मीर का मुद्दा उठाएंगे और इस मामले पर मध्यस्थता के अपने प्रस्ताव को रखेंगे।
कश्मीर मध्यस्थता पर ट्रंप के बयान
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कश्मीर पर मध्यस्थता के ताजा बयानों के बाद, पीएम मोदी से उनकी यह मुलाकात होने जा रही है।पिछले एक पखवाड़े में कश्मीर में मध्यस्थता ट्रंप तीन बयान दे चुके हैं। ट्रंप ने एक ताजा बयान में कहा है, 'उनके बीच (भारत व पाक) सैकड़ों सालों से विभिन्न नामों के तहत बातचीत हो रही है, लेकिन यह कश्मीर है और कश्मीर बेहद पेचीदा जगह है। वहां हिंदू हैं, मुसलमान हैं और मैं यह नहीं कहना चाहूंगा कि उनके बीच बहुत अच्छे संबंध है। अभी ऐसी ही स्थिति है। दोनों तरफ लाखों लोग ऐसे हैं जो दूसरी तरफ की सरकार का शासन चाहते हैं।'

कुछ दिनों पहले ही ट्रंप ने कश्मीर मुद्दे पर कहा था, 'कुछ दिनों पहले मपाकिस्तान के पीएम इमरान खान यहां(अमेरिका) आए थे और फ्रांस में मैं पीएम मोदी के साथ रहूंगा। दोनों देशों(भारत-पाकिस्तान) के बीच कई मुश्किलें हैं, इसलिए मध्यस्थता करने या कुछ अच्छा(बेहतर) करने के लिए जितना हो सकेगा, मैं करूंगा।'
सबसे पहले राष्ट्रपति ट्रंप ने पाकिस्तान के पीएम इमरान खान से मुलाकात के दौरान कश्मीर मुद्दे पर कहा था कि पीएम मोदी ने उनसे कहा है कि वह कश्मीर पर मध्यस्थता करें। इसकी भारत ने पुरजोर शब्दों में कड़ी निंदा की थी।

इमरान-मोदी से फोन पर बात
अभी हाल में ट्रंप ने पीएम मोदी और इमरान खान से बात की थी, जिसमें उन्होंने दोनों नेताओं को मिलकर काम करने का आग्रह किया। ट्रंप ने पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर भारत पर उदारवादी बयान देने की भी सलाह दी। ट्रंप ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा कि कश्मीर एक मुश्किल मुद्दा है। उन्होंने कहा कि उनकी दोनों नेताओं के साथ अच्छी बातचीत हुई।


भारत ने बताया आंतरिक मामला
हालांकि भारत कश्मीर मुद्दे पर हर बार अपनी बार दोहराता रहा है कि अनुच्छेद 370 हटाना उसका आंतरिक मामला है और कश्मीर पर विवाद एक द्विपक्षीय मामला है। इसलिए कश्मीर मुद्दा दोनों देश(भारत-पाकिस्तान) मिलकर ही निपटाएंगे। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप बार-बार मध्यस्थता की बात कहते हैं लेकिन अमेरिकी प्रशासन ने कश्मीर को एक आंतरिक और द्विपक्षीय मामला बताया है, लेकिन समय-समय पर कश्मीर पर अपनी चिंता जाहिर करता रहा है। अब ऐसे में देखने वाली बात होगी कि पीएम मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप के बीच मुलाकात में क्या सामने आता है।