लंदन: स्टीव स्मिथ की शानदार बैटिंग के दम पर ऑस्ट्रेलिया भले ही एशेज सीरीज (Ashes Sereis) अपने पास बचाने में कामयाब हो गई हो, लेकिन टीम के सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर (David Warner) के लिए यह सीरीज एक बुरे सपने की ही तरह रही. सीरीज के आखिरी टेस्ट मैच के चौथे दिन इंग्लैंड ने चौथे दिन रविवार को ऑस्ट्रेलिया के सामने 399 रनों का लक्ष्य रखा. जिसका पीछा करते हुए डेविड वार्नर एक बार फिर सस्ते में आउट हो गए और एक अनचाहा रिकॉर्ड भी अपने नाम कर गए. उन्होंने  10 से भी कम के औसत से सीरीज में रन बनाए और 61 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया.

आखिरी पारी में केवल 11 रन बना सके वार्नर
जब 399 रन के लक्ष्य का पीछा करने ऑस्ट्रेलिया की टीम मैदान पर उतरी उस समय वार्नर के पास एक मौका था कि वे सीरीज की आखिरी पारी में अपने रिकॉर्ड में कुछ सुधार कर पाते, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. वे ऑस्ट्रेलिया की दूसरी पारी में आउट होने वाले पहले बल्लेबाज तो नहीं रहे, लेकिन खुद का विकेट ज्यादा देर तक न बचा सके और स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंद पर एक बार फिर आउट हो गए. ब्रॉड ने वार्नर को स्लिप पर रोरी बर्न के हाथों कैच कराया. 

यह है वह 61 साल पुराना रिकॉर्ड
वार्नर ने सीरीज का अंत कुल 95 रन बनाकर किया जिसमें एक 65 रन की पारी शामिल है. यानि वे दस में से नौ पारियों में कुल 30 रन ही जोड़ सके. इस तरह उनका औसत 10 पारियों में 9.5 का रहा. इस औसत के साथ ही वार्नर टेस्ट क्रिकेट इतिहास में 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में सबसे कम रन बनाने वाले सलामी बल्लेबाज के तौर पर दर्ज हो गए. वार्नर ने न्यूजीलैंड के ओपनर जॉन डी आर्सी का रिकॉर्ड तोड़ा जिन्होंने 1958 में इंग्लैंड के खिलाफ ही केवल 136 रन बनाए थे. 

सात बार एक ही गेंदबाज से आउट होने का रिकॉर्ड
सीरीज में स्टुअर्ट ब्रॉड ने वार्नर को कुल सात बार आउट किया. लाल गेंद क्रिकेट में केवल छह गेंदबाज ही किसी खिलाड़ी को एक सीरीज में सात बार आउट कर सके हैं. ब्रॉड ने इस सूची में अपना नाम लिखवा लिया. अब तक जे सिडल को सी ग्रिमेट ने 1935/36 में, टी गोडार्ड को बी स्टैथम ने  1960 में, डेविड गावर को गैरी लार्सन ने 1989 में, माइक आर्थटन को ग्लेन मैकग्रा ने 1997 में, मोईन अली को नाथन लॉयन ने 2017/18 में, और डेविड वार्नर को स्टुअर्ट ब्रॉड ने 2019 में सात बार एक ही सीरीज में आउट किया है. 

विश्व कप में बनाया रिकॉर्ड
वार्नर दो महीने पहले ही इंग्लैंड में खत्म हुए आईसीसी विश्व कप टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों में दूसरे नंबर के खिलाड़ी रहे थे. उन्होंने 10 मैचों में 71.88 के औसत से तीन सेंचुरी और तीन हाफ सेंचुरी लगाते हुए 647 रन बनाए थे. इसमें 66 चौके और 8 छक्के भी लगाए थे. उनका स्ट्राइक रेट 89.36 का रहा था. वार्नर रोहित शर्मा से केवल एक रन पीछे रह गए थे.