पटनाः जेडीयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर को लेकर खबर मिली है कि वह बंगाल में ममता बनर्जी की मदद करेंगे. ममता बनर्जी के लिए बंगाल में बीजेपी चुनौती बनते जा रही है. ऐसे में 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की मदद करने वाले प्रशांत किशोर अब शायद बंगाल विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी की मदद कर सकते हैं. सूत्रों की मानें तो उन्होंने ममता बनर्जी से इस मसले पर मुलाकात की है.

वहीं, इस खबर पर जेडीयू के बयानों से मुहर लगती हुई भी प्रतीत हो रही है. कुछ समय से जेडीयू में हशिये पर प्रशांत किशोर दिख रहे हैं. ऐसे में जहां वह राजनीति में एक्टिव दिखने लगे थे अब वह फिर से रणनीतिकार के तौर पर काम करने की सोच रहे हैं.

जेडीयू के प्रवक्ता अजय आलोक ने इस खबर को लेकर कहा है कि हमें इससे कोई लेना देना नहीं है कि वह ममता बनर्जी से मिले या फिर उनके लिए काम करें. इस बारे में पार्टी के पास कोई जानकारी नहीं हैं. उन्होंने ममता बनर्जी से क्यों मुलाकात की. इस बयान से साफ है कि प्रशांत किशोर को लेकर जो नाराजगी पार्टी में दिख रही थी वह बरकरार है.

जेडीयू एनडीए का सहयोगी दल है और ऐसे में जेडीयू उपाध्यक्ष का गैर बीजेपी और बंगाल में एनडीए की धुरविरोधी ममता बनर्जी से मुलाकात काफी आशंकाओं को बता रही है. हालांकि, यह जेडीयू की भी नई नीति हो सकती है क्योंकि जेडीयू बीजेपी के बीच तल्खी की खबर सुर्खियों पर है.

वहीं, कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने जेडीयू पर निशाना साधते हुए कहा है कि वैचारिक रूप से पार्टी खोखली हो गई है. यह जेडीयू में ही संभव है कि पार्टी का अधिकारी किसी दूसरी पार्टी के लिए काम कर रहा है. प्रशांत किशोर अब जेडीयू के लिए बड़ा सवाल है. जो विभिन्न राज्यों में अन्य पार्टियों के लिए काम कर रहा है.

सूत्रों के अनुसार, ममता बनर्जी और अभिषेक बनर्जी से प्रशांत किशोर की मुलाकात केंद्रीय सचिवालय में हुई. ये मुलाकात करीब 1 घंटा 40 मिनट तक चली. 2021 में होने वाले बंगाल विधानसभा चुनावों से पहले तृणमूल कांग्रेस प्रशांत किशोर को अपने साथ जोड़ सकती है. माना जा रहा है कि वह एक महीने बाद ममता बनर्जी के साथ काम करना शुरू कर सकते हैं.

प्रशांत किशाेर अभी हाल में आंध्र प्रदेश में जगन रेड्डी के सलाहकार बने थे. लोकसभा और विधानसभा चुनावों में जगन की पार्टी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए चंद्रबाबू नायडू को चारों खाने चित्‍त कर दिया. विधानसभा में उन्‍होंने राज्‍य की सत्‍ता तो हथ‍ियाई ही, लोकसभा में भी जगन की पार्टी वाइएसआरसीपी ने टीडीपी का सफाया कर दिया.